Ad1

मोक्ष दर्शन (60-67) Surat Shabd Yoga karne ke niyam


सत्संग योग भाग 4 मोक्ष दर्शन/06
      प्रभु प्रेमियों ! भारतीय साहित्य में वेद, उपनिषद, उत्तर गीता, भागवत गीता, रामायण आदि सदग्रंथों का बड़ा महत्व है। इन्हीं सदग्रंथों में से ध्यान योग से संबंधित बातों को संग्रहित करके सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज ने 'सत्संग योग भाग 4 (मोक्ष दर्शन)' नामक पुस्तक की रचना की है। इसमें जो बातें व्यक्त की गई है उसे पारा संख्या देकर अभिव्यक्त किया गया है। उन्हीं प्रसंगोों में से आज के प्रसंग में जानेंगे-योग और यौगिक क्रिया,शब्द योग,सुरत शब्द अभ्यास,surat shabd yoga in hindi,surat shabd yoga mantra,yog,yog ki paribhasha,yoga bataye,योग का परिचय,yoga abhyas in hindi,yog shiksha,योग के प्रकार,introduction of yoga in hindi,yoga karne ke niyam,surat shabd yoga karne ke niyam


मोक्ष दर्शन (60-67) Surat Shabd Yoga karne ke niyam, योग मुद्रा में गुरुदेव
योग मुद्रा में गुरुदेव

मोक्ष दर्शन (60-67) Surat Shabd Yoga karne ke niyam, मोक्ष दर्शन पारा 60
मोक्ष दर्शन पारा 60

मोक्ष दर्शन पारा 61 से 63

मोक्ष दर्शन (60-67) Surat Shabd Yoga karne ke niyam, मोक्ष दर्शन पारा 64 से 67
मोक्ष दर्शन पारा 64 से 67

       मोक्ष दर्शन के पारा संख्या 60 से 67 तक में हम लोगों ने जाना कि   योग के प्रकार,introduction of yoga in hindi,yoga karne ke niyam,surat shabd yoga karne ke niyam      आदि बातों को। इतनी जानकारी के बाद भी अगर आपके मन में किसी प्रकार का शंका या कोई प्रश्न है, तो हमें कमेंट करें। इस प्रवचन के बारे में अपने इष्ट मित्रों को भी बता दें, जिससे वे भी लाभ उठा सकें। सत्संग ध्यान ब्लॉग का सदस्य बने। इससे आपको आने वाले प्रवचन या पोस्ट की सूचना नि:शुल्क मिलती रहेगी।


     अगर आप इस पुस्तक को अपने डिवाइस में डाउनलोड करना चाहते हैं तो    यहां दबाएं।
मोक्ष दर्शन (60-67) Surat Shabd Yoga karne ke niyam मोक्ष दर्शन (60-67) Surat Shabd Yoga karne ke niyam Reviewed by Satsang Dhyan on दिसंबर 31, 2018 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

सत्संग ध्यान से संबंधित प्रश्न ही पूछा जाए।

Blogger द्वारा संचालित.