Ad1

MS01, सत्संग योग चारों भाग ।। संतमत सत्संग का प्रतिनिधि ग्रंथ ।। आध्यात्मिक ज्ञान का जादुई पिटारा

त्संग योग (चारों भाग) एक परिचय

      सत्संग योग (चारो भाग)- सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की  पाँचवीं रचना है। इसमें सूक्ष्म भक्ति का निरूपण वेद, शास्त्र, उपनिषद्, उत्तर- गीता, गीता, अध्यात्म-रामायण, महाभारत, संतवाणी और आधुनिक विचारकों के विचारों द्वारा किया गया है। इसके स्वाध्याय और चिन्तन-मनन से अध्यात्म-पथ के पथिकों को सत्पथ मिल जाता है। इसका प्रकाशन सर्वप्रथम 1940 ई0 में हुआ था। वर्तमान में यह 21 वें संस्करण में प्रस्तुत है; जिसे मूल रूप में ही छापा गया है। 

MS01, सत्संग योग चारों भाग ।। एक परिचय और  ब्रिक्री ।। Literature in Sadhguru Maharishi


सत्संग योग की विशेषता

    "सत्संग योग" एक अध्यात्म ज्ञान का खजाना है। इसके बारे मै स्वयं गुरुदेव कहते थे कि "सत्संग योग" भानुमती का पिटारा है। (भानुमति एक जादूगरनी थी। जो लोगों की मनोवांछित वस्तुएं अपने पिटारा से निकाल कर दे दिया करती थी।) मोक्ष प्राप्ति के लिए जितनी ज्ञान की आवश्यकता है, वह  सभी ज्ञान "सत्संग योग" के इस पिटारे से प्राप्त किया जा सकता है।

     संतमत और वेदमत में भिन्नता नहीं है, इस बात को प्रमाणित करने वाली यह ग्रंथ सदगुरु महर्षि मेंहीं की प्रमुख पुस्तक है।  जो संतमत का प्रतिनिधि ग्रंथ है। इसमें 52 संत-महात्माओं के उपदेशों का संकलन किया गया है।

 इसे समझने के लिए इसकी भूमिका को अवश्य पढ़ें जो निम्नांकित चित्र में है।





सत्संग योग की भूमिका पृष्ठ एक
सत्संग योग की भूमिका पृष्ठ 1

सत्संग योग की भूमिका पृष्ठ दो
सत्संग योग की भूमिका पृष्ठ दो




सत्संग योग की भूमिका पृष्ठ 3
सत्संग योग की भूमिका पृष्ठ 3


सत्संग योग चारों भाग का लास्ट कवर पृष्ठ




सत्संग योग (चारों भाग) एक परिचय और  ब्रिक्री / Literature in Sadhguru Maharishi, सत्संग योग मूल कबर

सत्संग योग चारों भाग का मुख्य पृष्ठ पुस्तकालय संस्करण में।


सत्संग योग का लास्ट कबर, पुस्तकालय संस्करण में





इस पुस्तक को खरीदने के लिए निम्नलिखित वेबसाइट पर पधारें-


MS01, सत्संग योग चारों भाग ।। एक परिचय और  ब्रिक्री ।। Literature in Sadhguru Maharishi


इंस्टामोजो वेबसाइट का लोगो





सत्संग योग का मुख्य कबर पृष्ठ
सत्संग योग चारों भाग का पीडीएफ फाइल खरीदने के लिए   यहां दवाएं।

सहयोग राशि : रु 110/- मात्र ( मोक्ष पर्यंत चलने वाले ध्यानाभ्यास में सहयोगार्थ )


सत्संग योग का मुख्य कवर
सत्संग योग चारों भाग पुस्तक को (मूल रूप में) खरीदने के लिए     यहां दवाएं।

सहयोग राशि : रु 326/- मात्र


सत्संग योग का मुख्य कबर हार्ड बोर्ड में
सत्संग योग चारों भाग पुस्तकालय संस्करण में खरीदने के लिए   यहां दबाएं।

सहयोग राशि : रु 368/- मात्र




ऐमेज़ॉन बेबसाइट का लोगो






संतमत सत्संग के प्रतिनिधि ग्रंथ सत्संग योग का मुख्य कबर
सत्संग योग चारों भाग का पुस्तकालय संस्करण खरीदने के लिए    यहां दवाएं

सहयोग राशि : रु 395/- मात्र


संतमत का प्रतिनिधि ग्रंथ सत्संग योग का मुख्य कबर
सत्संग योग चारों भाग (मूल पुस्तक) खरीदने के लिए    यहां दबाएं।

सहयोग राशि : रु 365/- मात्र





सत्संग ध्यान स्टोर






संतमत का प्रतिनिधि ग्रंथ सत्संग योग का मुख्य कबर
सत्संग योग चारों भाग का पुस्तकालय संस्करण खरीदने के लिए     यहां दवाएं

सहयोग राशि : रु 368/- मात्र


सत्संग योग का मुख्य कबर
सत्संग योग चारों भाग (मूल पुस्तक) खरीदने के लिए      यहां दबाएं।

सहयोग राशि : रु 335/- मात्र


--×--



प्रभु प्रेमियों ! 'सत्संग योग' के प्रथम भाग को अच्छी तरह से और साधारण भाषा में समझने के लिए पूज्यनीय स्वामी लालदास जी महाराज ने "उपनिषद् - सार" ( ' सत्संग - योग ' के प्रथम भाग में संकलित उपनिषदों के पद्यात्मक मंत्रों की सरल भाषा में व्याख्या ) नामक पुस्तक लिखी है। सत्संग योग के पहले भाग के अधिकांश श्लोक गीता-सार में भी है। इन दोनों पुस्तकों के लिए 

उपनिषद् - सार ( ' सत्संग - योग ' के प्रथम भाग में संकलित उपनिषदों के पद्यात्मक मंत्रों की सरल भाषा में व्याख्या ) [paperback] Swami Lal Das Ji Maharaj [Jan 01, 2020], for ₹90.00 via @amazon  

 गीता - सार ।। श्रीगीता जी के 166 श्लोक और उत्तरगीता, ज्ञानसंकलिनी तंत्र, मनुस्मृति, शिव - संहिता, श्रीमद्भागवत और महाभारत के कुछ चुने हुए श्लोक और उनके अर्थो की पुस्तक। [paperback] Pujyapad Lal Das Ji Maharaj [Jan 01, 2020], for ₹120.00 via @amazon https://www.amazon.in/gp/product/B08P98DY2K/ref=cx_skuctr_share?smid=A1TQIJR7AX77U5


सत्संग योग के दूसरे भाग को समझने में मदद के लिए  गुरु महाराज महर्षि मेंही परमहंस जी महाराज द्वारा संपादित "संतवाणी सटीक" और स्वामी लालदास जी महाराज संपादित "संतवाणी-सुधा सटीक" अत्यंत महत्वपूर्ण है। इन पुस्तकों के लिए 

Santavaanee Sateek, 33 Santo kee Eeshvar-Bhakti sambandhee vachanon ka sateek sangrah. [paperback] Maharshi Mehi Paramhans jee Maharaj [Jan 01, 2013], for ₹135.00 via @amazon  https://www.amazon.in/gp/product/B07QLZZ7V8/ref=cx_skuctr_share?smid=A1TQIJR7AX77U5

 Saintwani Sudha Satik, The book of the saints of the second part of Satsanga-Yoga is a criticism book. [paperback] Pujyapadya Laldas ji Maharaj [Jan 01, 2017], for ₹180.00 via @amazon https://www.amazon.in/gp/product/B07QFDZY9R/ref=cx_skuctr_share?smid=A1TQIJR7AX77U5


सत्संग योग भाग 4 जिसे 'मोक्ष दर्शन' नाम से भी अलग से प्रकाशित किया गया है। इसका अंग्रेजी भाषा में अनुवाद किया गया है और इसके कठिन शब्दों को समझाने के लिए इसका शब्द कोष भी प्रकाशित किया गया है। इन पुस्तकों के लिए 


The Philosophy of Liberation (Mokschh Darshan), Santamat kee saadhana mein unnati karane ke pratyek bindu par khulaasa karane vaalee pustak. [paperback] Maharshi Mehi Paramhans jee Maharaj [Jan 01, 1999], for ₹150.00 via @amazon  https://www.amazon.in/gp/product/B07R7G4B9M/ref=cx_skuctr_share?smid=A1TQIJR7AX77U5

मोक्ष-दर्शन का शब्दकोश ।। गुरुदेव के स्वानुभूत गद्यात्मक वचनों के संतमत, जड़ प्रकृति, चेतन प्रकृति, आदिनाद, सृष्टि-क्रम, सृष्टि के मंडल, जीव, ब्रह्म आदि विषयों के कठिन शब्दों के सरलार्थ की पुस्तक। [paperback] Pujyapad Lal Das Ji Maharaj [Jan 01, 2020], for ₹30.00 via @amazon https://www.amazon.in/gp/product/B08P9CN8SF/ref=cx_skuctr_share?smid=A1TQIJR7AX77U5

--×--


सद्गुरु महर्षि मेंहीं साहित्य सुमनावली


सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज प्रसन्न मुद्रा में

MS01 . सत्संग - योग ( चारो भाग )   MS02 . रामचरितमानस - सार सटीक  MS03 . वेद दर्शन - योग,   MS04 . विनय - पत्रिका - सार सटीक,  MS05 . श्रीगीता - योग - प्रकाश, भारती (हिन्दी),  MS05a . श्री गीतााा योग प्रकाश   (अंग्रेजी अनुवाद),    MS06 . संतवाणी सटीक   MS07 . महर्षि मॅहीं - पदावली   MS08 . मोक्ष दर्शन भारती (हिन्दी), MS08a . मोक्ष दर्शन अंग्रेजी अनुवाद,  MS09 . ज्ञान - योग - युक्त ईश्वर भक्ति ,   MS10 . ईश्वर का स्वरूप और उसकी प्राप्ति,   MS11 . भावार्थ - सहित घटरामायण - पदावली ,   MS12  .  सत्संग - सुधा , प्रथम भाग,    MS13. सत्संग सुधा , द्वितीय भाग,  MS14 . सत्संग - सुधा , तृतीय भाग  MS15 . सत्संग - सुधा , चतुर्थ भाग  MS16. राजगीर हरिद्वार दिल्ली सत्संग,.  MS17 . महर्षि मेंहाँ - वचनामृत , प्रथम खंड,   MS18 . महर्षि मेंहीं सत्संग - सुधा सागर भाग ,  MS19 . महर्षि मेंहीं सत्संग - सुधा सागर भाग 2, 



"सत्संग ध्यान स्टोर
सत्संग ध्यान स्टोर
सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की पुस्तकें, चित्र, लौकेट, कलम, आसनी एवं सत्संग ध्यान से संबंधित अन्य सामग्री के लिए हमारे "सत्संग ध्यान स्टोर" निम्नलिखित वेबसाइटों पर उपलब्ध है, जिसका लिंक नीचे है।

                                 ----×----


 प्रभु प्रेमियों ! गुरु महाराज के भारती पुस्तक "सत्संग योग" के परिचय में आपलोगों ने जाना कि  मोक्ष प्राप्ति के विषय में वेद-उपनिषद एवं अन्य संत-महात्माओं के क्या विचार हैं?  इतनी जानकारी के बाद भी अगर आपके मन में किसी प्रकार का शंका या कोई प्रश्न है, तो हमें कमेंट करें। इस लेख के बारे में अपने इष्ट मित्रों को भी बता दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें। सत्संग ध्यान ब्लॉग का सदस्य बने। इससे आपको आने वाले हर पोस्ट की सूचना नि:शुल्क मिलती रहेगी। निम्नलिखित वीडियो मेंें सत्संग योग चारों भाग की झांकी दिखाई गई है।



सत्संग ध्यान स्टोर पर उपलब्ध सामग्री चित्र, स्टोर पर मिलने वाली वस्तुएं एवं पुस्तकें,
सत्संग ध्यान स्टोर की सामग्री
सत्संग ध्यान स्टोर सामग्री
"सत्संग ध्यान स्टोर" पर उपलब्ध पुस्तकों की सूची एवं अन्य सामग्रियों की जानकारी के लिए   यहां दबाएं।

सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की पुस्तकें मुफ्त में पाने के लिए  शर्तों के बारे में जानने के लिए  यहां दवााएं

MS01, सत्संग योग चारों भाग ।। संतमत सत्संग का प्रतिनिधि ग्रंथ ।। आध्यात्मिक ज्ञान का जादुई पिटारा MS01, सत्संग योग चारों भाग ।। संतमत सत्संग का प्रतिनिधि ग्रंथ ।। आध्यात्मिक ज्ञान का जादुई पिटारा Reviewed by सत्संग ध्यान on 6/19/2020 Rating: 5

1 टिप्पणी:

  1. दूसरों से आदर पाने की इच्छा मत रखिए; क्योंकि प्राय: लोग स्वयं आदर चाहते हैं; परंतु दूसरों को आदर देना नहीं चाहते।

    जवाब देंहटाएं

सत्संग ध्यान से संबंधित प्रश्न ही पूछा जाए।

Blogger द्वारा संचालित.