Ad1

R38, (क) Ravan Vibhishan Samvad/Ramayan chaupai in hindi with meaning

रामचरितमानस सार सटीक/ज्ञान प्रसंग 38 क

       प्रभु प्रेमियों ! भारतीय साहित्य में वेद, उपनिषद, उत्तर गीता, श्रीमद्भागवत् गीता, रामायण आदि सदग्रंथों का बड़ा महत्व है। इन्हीं सदग्रंथों में से ध्यान योग से संबंधित बातों को रामायण से संग्रहित करके सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज ने 'रामचरितमानस सार सटीक' नामक पुस्तक की रचना की है। जिसका टीका और व्याख्या भी किया गया है । उन्हीं प्रसंगों में से आज के प्रसंग में जानेंगे-राम रावण संवाद के ज्ञानमय उपदेश।

R38, (क) Ravan Vibhishan Samvad/Ramayan chaupai in hindi with meaning/रावण और विभीषण संवाद
रावण और विभीषण संवाद




रावण विभीषण संवाद सुमति कुमति वर्णन

      इस प्रसंग  में बताया गया है कि  सुमति, कुमति सब के ह्रदय में रहता है । लेकिन सज्जन पुरुष वही है, जो ज्यादा-से-ज्यादा सुमति का आचरण करे । सुमति पर चले । यह बात विभीषन रावण को समझा रहे हैं । इस प्रसंग को पूरी तरह समझने के लिए निंलिखित विशेष प्रवचन पर दवाएं-

R38, (क) Ravan Vibhishan Samvad/Ramayan chaupai in hindi with meaning/सुमति कुमति का वर्णन
सुमति कुमति का वर्णन

R38, (क) Ravan Vibhishan Samvad/Ramayan chaupai in hindi with meaning/धर्म महिमा
धर्म महिमा

      प्रभु प्रेमियों ! गुरु महाराज के भारती पुस्तक "रामचरितमानस सार सटीक" के इस लेख का पाठ करके हमलोगों ने जाना कि     सुमति, कुमति सब के ह्रदय में रहता है । लेकिन सज्जन पुरुष वही है, जो ज्यादा-से-ज्यादा सुमति का आचरण करे । । इतनी जानकारी के बाद भी अगर आपके मन में किसी प्रकार का शंका या कोई प्रश्न है, तो हमें कमेंट करें। इस लेख के बारे में अपने इष्ट मित्रों को भी बता दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें। सत्संग ध्यान ब्लॉग का सदस्य बने। इससे आपको आने वाले  पोस्ट की सूचना नि:शुल्क मिलती रहेगी। हमारा अगला पोस्ट पढ़ना ना भूलें।


     अगर आप इस पुस्तक को अपने डिवाइस में डाउनलोड करना चाहते हैं तो    यहां दबाएं।

R38, (क) Ravan Vibhishan Samvad/Ramayan chaupai in hindi with meaning R38, (क) Ravan Vibhishan Samvad/Ramayan chaupai in hindi with meaning Reviewed by सत्संग ध्यान on जनवरी 07, 2019 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

सत्संग ध्यान से संबंधित प्रश्न ही पूछा जाए।

Blogger द्वारा संचालित.