Ad

Ad

शब्दकोष 36 || भटकना से मंडल तक के शब्दों के शब्दार्थादि || संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष

संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष / भ

     प्रभु प्रेमियों ! ' संतमत+ मोक्ष - दर्शन का शब्दकोश ' नाम्नी प्रस्तुत लेख में ' मोक्ष - दर्शन ' + 'महर्षि मेंहीं पदावली शब्दार्थ भावार्थ और टिप्पणी सहित' + 'गीता-सार' + 'संतवाणी सटीक' आदि धर्म ग्रंथों में गद्यात्मक एवं पद्यात्मक वचनों में आये शब्दों के अर्थ लिखे गये हैं . कोष्ठकों में शब्दों के व्याकरणिक परिचय भी देने का प्रयास किया गया है और शब्दों से संबंधित कुछ सूक्तियों का संकलन किया गया है. जो पूज्यपाद लालदास जी महाराज द्वारा लिखित व संग्रहित  है । धर्मप्रेमियों के लिए यह कोष बड़ी ही उपादेय है । आईए इस कोष के बनाने वाले महापुरुष का दर्शन करें.

बुद्धि-बल - भटकन  तक के शब्दों का अर्थ पढ़ने के लिए   👉  यहां दवाएं

सद्गुरु महर्षि में और बाबा लाल दास जी
लालदास जी और गुरु बाबाबाबा


भटकना - मंडल   शब्द  तक के शब्द और उसके अर्थ



भटकना - मंडल

 

( भक्ति = सेवा भाव , हृदय का वह भाव जिसके कारण किसी सद्गुण सम्पन्न व्यक्ति के प्रति विश्वास , आदर , प्रेम , सेवा और पूज्यता का भाव रखते हैं । P09 ) 

(भक्ति - भेद = भजन - भेद , ईश्वर भक्ति करने की युक्ति , भक्ति के प्रकार , परमात्मा की ओर चलने की रीति , भक्ति - रहस्य , भक्ति की महिमा । P09 ) 

(भजु - भजो , भक्ति करो , सुमिरन करो । P30 ) 

भटकना ( हिं ० अ ० क्रि ० ) = बिना लाभ के या बिना कारण के जहाँ तहाँ घूमना - फिरना । 

{भय = डर , अहित होने की संभावना से उत्पन्न दु:ख । ( भय कई प्रकार के होते हैं ; जैसे - अपने मरने का भय , प्रिय व्यक्ति के मरने का भय , धन - नाश का भय , प्रतिष्ठा के चले जाने का भय , स्वास्थ्य - नाश का भय , मरने के बाद मनुष्य - योनि से भिन्न योनि में जाने का भय आदि । ) P02 }

भरपूर ( वि ० ) = भरा हुआ । 

भला ( वि ० ) = अच्छा , लाभदायक । ( पुं ० ) भलाई , कल्याण । 

(भव = संसार , जन्म - मरण चक्र । P139 ) 

(भव = संसार , होना , जन्म , जन्म - मरण । P02 )

(भव खंडन = संसार को अर्थात् आवागमन के चक्र को नष्ट करनेवाला ।  P139 ) 

(भवजल = भव-जलनिधि, संसार-समुद्र । P11 ) 

{भव तिमिर = संसार का अज्ञान अंधकार । ( तिमिर = अंधकार ) P04 }

(भव - फंदन = संसार के बंधन - काम , क्रोध आदि षड् विकार , जन्म - मरणरूप बंधन , जन्म - मरण का दुःख । P02 )

(भव - भय = जन्म - मरण का दुःख , संसार का दुःख , त्रय ताप । P30 )

(भव-सागर = संसाररूपी समुद्र, दुःखदायी संसार। P11

(भ्रम = अज्ञानता , मिथ्या ज्ञान , माया । P139 ) 

(भ्रम तम = अज्ञान - अंधकार , मिथ्या ज्ञानरूपी अंधकार । P30 ) 

(भ्रम तम जाल = बंधन - रूप अज्ञान - अंधकार । P03 )

(भ्रमि-भ्रमि - भ्रमण कर करके , घूम - घूमकर । P09

भव्य ( सं ० , वि ० ) = अच्छा लगने वाला , सुन्दर । 

भाँति ( सं ० , स्त्री ० ) = प्रकार , तरह , रीति , ढंग ।  

(भाँति = प्रकार , विविधता , अनेकता । P01 ) 

( भारती - हिन्दी भाषा ( सद्गुरु महर्षि में ही परमहंसजी महाराज हिन्दी भाषा को भारती भाषा कहना पसन्द करते थे । पंजाबी भाषा भी हिन्दी के ही अन्तर्गत है )। P08  ) 

भारती भाषा ( सं ० , स्त्री ० ) = हिन्दी भाषा ( सद्गुरु महर्षि मेँहीँ परमहंसजी महाराज हिन्दी भाषा को ' भारती भाषा ' कहना पसंद करते थे । )  

भारती सन्तवाणी ( सं ० , स्त्री ० ) = हिन्दी भाषा में लिखी गयी संतों की वाणी , हिन्दी भाषा के संतों की वाणी । 

(भावै = अच्छा लगे । P09 ) 

भित्ति ( सं ० , स्त्री ० ) नींव , आधार , कारण । 

भिन्न ( सं ० , वि ० ) = अलग , एक - जैसा नहीं हो , अन्तर रखने दीवार , जो वाला । 

भिन्न - भिन्न ( सं ० , वि ० ) = अलग अलग ।  

भीतर की इन्द्रिय ( स्त्री ० ) = मन , बुद्धि , चित्त और अहंकार ।

भीषण ( सं ० , वि ० ) = भयंकर , कठिन , बहुत अधिक । 

भूप ( सं ० , वि ० ) = भूपति , पृथ्वीपति , पृथ्वी का पालन करनेवाला । ( पुं ० ) राजा । 

(भूरी = भूरि , बहुत ; देखें- “ तातें करहिं कृपानिधि दूरी । सेवक पर ममता अति भूरी ॥ " ( रामचरितमानस , लंकाकांड ) | P09 ) 

भूल ( हिं ० , स्त्री ० ) नासमझी , अशुद्धि , त्रुटि , चूक । 

{भूल - चूक = असावधानी , आलस्य , और अज्ञानतावश होनेवाली गलतियाँ , दोष , कसूर , अपराध । ( कुछ गलतियाँ आदत , आवश्यकता , लज्जा - संकोच और षड्विकारवश भी होती हैं । ) P03 , P04 }

भेद ( सं ० , पुं ० ) = प्रकार , रहस्य , छिपा हुआ हाल , युक्ति , उपाय , तरीका , कोई काम करने का ढंग , भिन्नता , अंतर । 

(भेद = द्वैतता , अनेकता , जीव और ब्रह्म की भिन्नता का भाव । P139 ) 

{भेव = भेद , ज्ञान , युक्ति , रहस्य ; देखें- " विधि औ हरि हर पावत नाहीं , बिना गुरू प्रभु भेव जी । " ( ९२ वाँ पद्य )  P03 }

भोंदू ( हिं ० , वि ० ) = मूर्ख , नासमझ , छोटी बुद्धिवाला । 

भोग ( सं ० , पुं ० ) = भोगने की क्रिया  ।

(भोग = नैवेद्य, वह खाद्य सामग्री जो देवता को चढ़ायी जाए । P10 ) 

भोगी ( सं ० , वि ० ) = भोगनेवाला । 

भ्रम ( सं ० , पुं ० ) = शंका , संदेह । 

(भ्रम = मिथ्या ज्ञान । P04 ) 

{भ्रम तम कूप = सूखे गहरे कुएँ के समान दु:ख देनेवाला अज्ञान - अंधकार । ( किसी चीज के बारे में कुछ नहीं जानना अज्ञानता है ; परन्तु किसी चीज को कुछ दूसरी ही चीज समझ लेना भ्रम है ; जैसे रस्सी को साँप समझ लेना । भ्रम का कारण अज्ञानता ही है । ) P03 }

भ्रू ( सं ० , स्त्री ० ) = भौंह | 


म 

(मंगल = कल्याण , अच्छाई , भलाई , आनन्द , मनोहर , सुहावना , सुन्दर । P03 ) 

(मंगल करण - कल्याण करनेवाला , आनन्द देनेवाला । P03 ) 

(मंगलमय = कल्याण से भरा हुआ , आनन्द से भरा हुआ , शुभ गुणों से परिपूर्ण । P03 ) 

मंजिल ( अ ० , स्त्री ० ) = पड़ाव , लक्ष्य , लक्ष्य स्थान , मकान का खंड , उद्देश्य , गन्तव्य स्थान , वह स्थान जहाँ जाना हो । 

मंडप ( सं ० , पुं ० ) = मँड़वा , चारो ओर से खुला हुआ ऐसा कच्चा या पक्का घर अथवा मकान जहाँ कोई विशेष कार्यक्रम होता हो । 

मंडल ( सं ० , पुं ० ) = क्षेत्र , सीमा , फैलाव , विस्तार , घेरा , गोल आकृति का कोई पदार्थ , संस्था , संघ , समुदाय ।



मजीरा - मानना    तक के शब्दों का अर्थ पढ़ने के लिए   👉  यहां दवाएं


     प्रभु प्रेमियों ! संतमत की बातें बड़ी गंभीर हैं । सामान्य लोग इसके विचारों को पूरी तरह समझ नहीं पाते । इन पोस्टों  में संत , संतमत , संतमत की उपयोगिता , जड़ प्रकृति , चेतन प्रकृति , आदिनाद , सृष्टि - क्रम , सृष्टि के मंडल , जीव , ब्रह्म , ईश्वर , परमेश्वर , ईश्वर की भक्ति , परम मुक्ति , संतमत की साधना - पद्धतियों ( मानस जप , मानस ध्यान , दृष्टियोग तथा शब्द - साधना ) , साधना - पद्धतियों के अभ्यास से उत्पन्न अनुभूतियों , सद्गुरु की महत्ता , यम - नियम , साधकों के आहार-विहार, सत्संग,   भटकना, भरपूर, भला, भव्य, भांति, भारती भाषा, भारतीय संतवाणी, भित्ति, भिन्न, भिन्न-भिन्न, भीतर की इंद्रिय, भीषण, भूप, भूल, भेद, भोंदू, भोग, भोगी, भ्रम, भ्रू, मंजिल, मंडप, मंडल आदि से संबंधित बातों पर चर्चा की गई हैं । 



मोक्ष दर्शन का शब्दकोश
मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष 

प्रभु प्रेमियों ! बाबा लालदास कृत  ' मोक्ष - दर्शन का शब्दकोश ' के बारे में विशेष जानकारी तथा इस पुस्तक को खरीदने के लिए   👉 यहां दबाएं


सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की पुस्तकें मुफ्त में पाने के लिए  शर्तों के बारे में जानने के लिए   यहां दवाएं

---×---

शब्दकोष 36 || भटकना से मंडल तक के शब्दों के शब्दार्थादि || संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष शब्दकोष 36 ||  भटकना  से  मंडल  तक के शब्दों के शब्दार्थादि  ||  संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष Reviewed by सत्संग ध्यान on 12/13/2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

सत्संग ध्यान से संबंधित प्रश्न ही पूछा जाए।

Popular Posts

Ad

Blogger द्वारा संचालित.