Ad

Ad

शब्दकोष-11 उक्ति - ऋषि शब्द तक के शब्दों के शब्दार्थादि || संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष

संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष / उ+ऋ

     प्रभु प्रेमियों ! ' संतमत+ मोक्ष - दर्शन का शब्दकोश ' नाम्नी प्रस्तुत लेख में ' मोक्ष - दर्शन ' + 'महर्षि मेंहीं पदावली शब्दार्थ भावार्थ और टिप्पणी सहित' + 'गीता-सार' + 'संतवाणी सटीक' आदि धर्म ग्रंथों में गद्यात्मक एवं पद्यात्मक वचनों में आये शब्दों के अर्थ लिखे गये हैं . कोष्ठकों में शब्दों के व्याकरणिक परिचय भी देने का प्रयास किया गया है और शब्दों से संबंधित कुछ सूक्तियों का संकलन किया गया है. जो पूज्यपाद लालदास जी महाराज द्वारा लिखित व संग्रहित  है । धर्मप्रेमियों के लिए यह कोष बड़ी ही उपादेय है । आईए इस कोष के बनाने वाले महापुरुष का दर्शन करें.

इति - ईश्वर  तक के शब्दों का अर्थ पढ़ने के लिए   👉  यहां दवाएं

सद्गुरु महर्षि में और बाबा लाल दास जी
लालदास जी और गुरु बाबाबाबा


उक्ति - ऋषि    शब्द  तक के शब्द और उसके अर्थ


उक्ति - ऋषि


उ+ऋ


उक्ति ( सं ० , स्त्री ० ) कही गयी कोई बात । 

उच्च ( सं ० , वि ० ) = ऊँचा । 

उच्चतर ( सं ० , वि ० ) = किसी की तुलना में ऊँचा । 

उच्चरन्त् ( सं ० , क्रियापद ) = उच्चारण करते हुए , कहते हुए ।

उत्कर्ष ( सं ० , पुं ० ) = वृद्धि , बढ़ती , उन्नति । 

उत्कृष्ट ( सं ० वि ० ) = ऊँचे स्तर का । 

उत्तम ( सं ० वि ० ) = अच्छा । 

उत्तम उत्तम ( सं ०, वि० ) = अच्छा - अच्छा , अच्छे - से - अच्छा । 

उत्तरोत्तर ( सं ० , वि ० ) - एक कें बाद दूसरा । ( क्रि ० वि ० ) एक से एक बढ़कर , अधिक-से-अधिक , क्रमशः लगातार । 

उत्थित ( सं ० , वि ० ) = उठा हुआ , उत्पन्न , निकला हुआ ।

उत्पत्तिहीन ( सं ० वि ० ) = उत्पत्ति रहित , अजन्मा , जिसकी उत्पत्ति ।

उदय ( सं ० , पुं ० ) = उत्पत्ति , किसी या जन्म नहीं हुआ हो । पदार्थ का ऊपर उठना , उन्नति , निकलना , प्रकट होना । 

उद्गम स्थान ( सं ० , प ० ) = उत्पत्ति स्थान , वह स्थान जहाँ से किसी की उत्पत्ति हुई हो ।

उन्मुनी रहनी ( हिं ० , स्त्री ० ) = वह अवस्था जिसमें मन संकल्प - विकल्प छोड़कर रहता है । 

उपकारार्थ ( सं ० , पुं ० ) = उपकार । 

उपकारी ( सं ० , वि ० ) = उपकार करनेवाला , भलाई करनेवाला । 

उपदेश ( सं ० , पुं ० ) = आदेश , आज्ञा , शिक्षा , सिखावन , सिखाने या सीखनेयोग्य बात । 

उपनिषद् ( सं ० , स्त्री ० ) = ऋषियों के द्वारा संस्कृत में रचा हुआ ग्रन्थ जिसमें ब्रह्म , जीव , माया , ब्रह्म - प्राप्ति का उपाय आदि बातों का उल्लेख है , वेदान्त , वेद का अन्तिम भाग अर्थात् ज्ञानकाण्ड । 

उपयोगिता ( सं ० , स्त्री ० ) = उपयोगी होने का भाव , किसी काम में आने के योग्य होने का भाव । 

उपर्युक्त ( सं ० , वि ० ) = ऊपर कहा हुआ । 

उपासक ( सं ० वि ० ) = उपासना करनेवाला ।  

उपासना ( सं ० , स्त्री ० ) = निकट बैठना , योगाभ्यास या ध्यानाभ्यास जिसके द्वारा इष्ट की निकटता प्राप्त होती है , ईश्वर साक्षात्कार का उपाय , साधना , भक्ति , पूजा-पाठ आदि ।  

उपास्य ( सं ० , वि ० पुँ ० ) = उपासना करने के योग्य , जिसकी उपासना की जाए । ( पँ ० ) इष्ट । 

उर ( सं ० , पुं ० ) = हृदय । 

उल्लिखित ( सं ० , वि ० ) = उल्लेख = किया हुआ , ऊपर लिखा हुआ , ऊपर वर्णन किया हुआ । 

ऊर्ध्वगति ( सं ० , स्त्री ० ) = ऊपर की ओर चलना या उठना । 



ऋषि ( सं ० , वि ० ) = वैदिक मंत्रों के दृष्टा , जीवन और जगत् के सत्य नियमों की खोज करनेवाला । ( पुं ० ) वे आत्मज्ञ महापुरुष जिनके वचन वेद आदि ग्रंथों में संकलित हैं ।


एकचित्त - ओर    तक के शब्दों का अर्थ पढ़ने के लिए   👉  यहां दवाएं


     प्रभु प्रेमियों ! संतमत की बातें बड़ी गंभीर हैं । सामान्य लोग इसके विचारों को पूरी तरह समझ नहीं पाते । इन पोस्टों  में संत , संतमत , संतमत की उपयोगिता , जड़ प्रकृति , चेतन प्रकृति , आदिनाद , सृष्टि - क्रम , सृष्टि के मंडल , जीव , ब्रह्म , ईश्वर , परमेश्वर , ईश्वर की भक्ति , परम मुक्ति , संतमत की साधना - पद्धतियों ( मानस जप , मानस ध्यान , दृष्टियोग तथा शब्द - साधना ) , साधना - पद्धतियों के अभ्यास से उत्पन्न अनुभूतियों , सद्गुरु की महत्ता , यम - नियम , साधकों के आहार-विहार, सत्संग, उक्ति, उच्च, उच्चतर,उच्चारन्त्, उत्कर्ष, उत्कृष्ट, उत्तम, उत्तम-उत्तम, उत्तरोत्तर, उत्थित, उत्पत्तिहीन, उदय, उद्गम-स्थान, उन्मुनि रहनी,  उपकारार्थ, उपकारी, उपदेश, उपनिषद, उपयोगिता, उपर्युक्त, उपासक, उपासना, उपास्य, उर, उल्लिखित, ऋषि आदि से संबंधित बातों पर चर्चा की गई हैं । 



मोक्ष दर्शन का शब्दकोश
मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष 

प्रभु प्रेमियों ! बाबा लालदास कृत  ' मोक्ष - दर्शन का शब्दकोश ' के बारे में विशेष जानकारी तथा इस पुस्तक को खरीदने के लिए   👉 यहां दबाएं


सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की पुस्तकें मुफ्त में पाने के लिए  शर्तों के बारे में जानने के लिए   यहां दवाएं

---×---

शब्दकोष-11 उक्ति - ऋषि शब्द तक के शब्दों के शब्दार्थादि || संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष शब्दकोष-11   उक्ति - ऋषि   शब्द तक के शब्दों के शब्दार्थादि   ||  संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष Reviewed by सत्संग ध्यान on 12/09/2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

सत्संग ध्यान से संबंधित प्रश्न ही पूछा जाए।

Popular Posts

Ad

Blogger द्वारा संचालित.