Ad

Ad

शब्दकोष 40 || रंगीन से रेफरेंस तक के शब्दों के शब्दार्थादि || संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष

संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष / र

     प्रभु प्रेमियों ! ' संतमत+ मोक्ष - दर्शन का शब्दकोश ' नाम्नी प्रस्तुत लेख में ' मोक्ष - दर्शन ' + 'महर्षि मेंहीं पदावली शब्दार्थ भावार्थ और टिप्पणी सहित' + 'गीता-सार' + 'संतवाणी सटीक' आदि धर्म ग्रंथों में गद्यात्मक एवं पद्यात्मक वचनों में आये शब्दों के अर्थ लिखे गये हैं . कोष्ठकों में शब्दों के व्याकरणिक परिचय भी देने का प्रयास किया गया है और शब्दों से संबंधित कुछ सूक्तियों का संकलन किया गया है. जो पूज्यपाद लालदास जी महाराज द्वारा लिखित व संग्रहित  है । धर्मप्रेमियों के लिए यह कोष बड़ी ही उपादेय है । आईए इस कोष के बनाने वाले महापुरुष का दर्शन करें.

मेलना - योनि  तक के शब्दों का अर्थ पढ़ने के लिए   👉  यहां दवाएं

सद्गुरु महर्षि में और बाबा लाल दास जी
लालदास जी और गुरु बाबाबाबा


रंगीन - रेफरेंस    शब्द  तक के शब्द और उसके अर्थ


रंगीन - रेफरेंस

 

रंगीन ( सं ० , वि ० ) = रंगवाला  । 

रजोगुण ( सं ० , पुं ० ) = प्रकृति का एक गुण या शक्ति जो उत्पन्न करने का काम करती है । 

रत ( सं ० , वि ० ) = लीन । 

ररं ( पुं ० ) = शून्य मंडल का शब्द  ।  

रवि ( सं ० , पुं ० ) = सूर्य । 

रस ( सं ० , पुं ० ) = जिह्वा इन्द्रिय के द्वारा ग्रहण किया जानेवाला विषय , स्वाद , आनन्द , किसी पदार्थ का निचोड़ा गया तरल पदार्थ । 

रसना  ( बंद, स्त्री ० ) =  जिह्वा । 

रसीदा ( फा ० रसीदः , वि ० ) = पहुँचा हुआ , पूर्ण । 

(रहूँ = जाँच करता रहूँ , पहचान करता रहूँ , खोजता रहूँ । P09)

(रहम (अरबी) = दया, कृपा। P11 ) 

(रहमान (अरबी) = दयालु, कृपालु । P11 ) 

रहस्य ( सं ० , पुं ० ) = छिपी हुई बात । 

(राजते = राजता है , विद्यमान है , स्थित है , शोभित है ।  P07

{राता = रत करनेवाला , अनुरक्त करनेवाला , संलग्न करनेवाला , लीन करनेवाला , अनुरक्त रहनेवाला , संलग्न रहनेवाला , लीन रहनेवाला ; देखें- " मनुआँ असथिरु सबदे राता , एहा करणी सारी । " ( गुरु नानकदेवजी )P30 }

{राता =  रत , अनुरक्त , लगा हुआ , लीन , प्रेमी ; देखें- “ अस विवेक जब देइ विधाता । तब तजि दोष गुनहिं मनु राता ॥ " ( मानस , बालकांड ) P30 }

{राम दिवाकर = सूर्यब्रह्म । ( राम = ब्रह्म । दिवाकर = सूर्य । त्रिकुटी में दिखाई पड़नेवाला सूर्य ब्रह्म और गुरु का अत्यन्त तेजोमय सगुण - साकार रूप है । पदावली के ८८ वें पद्य में इसे ब्रह्मदिवाकर कहकर गुरु का रूप बताया गया है ; देखें- " जहाँ ब्रह्म दिवाकर रूप गुरू धर , करें परम परकाश रे । " ) P03 }

रामनाम ( सं ० , पुं ० ) = परमात्मा का वास्तविक ध्वन्यात्मक नाम , सर्वव्यापक शब्द , समस्त सृष्टि में व्यापक शब्द , आदिनाद ।

(रामनाम = राम अर्थात् परम प्रभु परमात्मा का असली नाम । P05 ) 

राह ( फा ० , स्त्री ० ) = मार्ग , रास्ता ,  पथ ।  

राहे नजात ( फा ० अ ० , स्त्री ० ) = मुक्ति का मार्ग । 

(रीझै = रीझता है , प्रसन्न होता है , संतुष्ट होता है । P145 )

रूप ( सं ० , पुं ० ) = स्थूल दृष्टि या दिव्य दृष्टि से देखा जानेवाला विषय । 

(रूप ब्रह्मांड = सूक्ष्म जगत् जहाँ तक ही रंग - रूप दिखाई पड़ते हैं , प्रकाश - मंडल । P139 ) 

रूपान्तर ( सं ० , पुं ० ) = हुआ दूसरा रूप । 

रूपान्तरण ( सं ० , पुं ० ) = बदला बदलना । 

रूपान्तरित ( सं ० , वि ० ) = जिसका रूपान्तरण हुआ हो , दूसरे रूप में बदला हुआ , जो दूसरे रूप में बदल गया हो । 

रू-बरू ( फा ० ) = आमने - सामने , प्रत्यक्ष , समक्ष ।

{रूरे = श्रेष्ठ , उत्तम , सुन्दर , अच्छा ; देखें- " भरहिं निरन्तर होहिं न पूरे । तिन्हके हिय तुम्ह कहुँ गृह रूरे ॥ ( रामचरितमानस , अयोध्याकांड ) P04

रेचक ( सं ० , पुं ० ) = प्राणायाम की एक क्रिया जिसमें पेट में रोकी गयी वायु को बाहर निकाल दिया जाता है । 

रेफेरेन्स ( अँ o ) = प्रसंग , संकेत , चर्चा , उल्लेख ।


लखना - विख्यात    तक के शब्दों का अर्थ पढ़ने के लिए   👉  यहां दवाएं


     प्रभु प्रेमियों ! संतमत की बातें बड़ी गंभीर हैं । सामान्य लोग इसके विचारों को पूरी तरह समझ नहीं पाते । इन पोस्टों  में संत , संतमत , संतमत की उपयोगिता , जड़ प्रकृति , चेतन प्रकृति , आदिनाद , सृष्टि - क्रम , सृष्टि के मंडल , जीव , ब्रह्म , ईश्वर , परमेश्वर , ईश्वर की भक्ति , परम मुक्ति , संतमत की साधना - पद्धतियों ( मानस जप , मानस ध्यान , दृष्टियोग तथा शब्द - साधना ) , साधना - पद्धतियों के अभ्यास से उत्पन्न अनुभूतियों , सद्गुरु की महत्ता , यम - नियम , साधकों के आहार-विहार, सत्संग,   रंगीन, रजोगुण, रत, ररं, रवि, रस, रसना, रशीदा, रहस्य, रामनाम, राह, राहे नजात, रूप, रूपांतर, रूपांतरण, रूपांतरित, रू-बरू, रेचक, रेरेफरेंस  आदि से संबंधित बातों पर चर्चा की गई हैं । 



मोक्ष दर्शन का शब्दकोश
मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष 

प्रभु प्रेमियों ! बाबा लालदास कृत  ' मोक्ष - दर्शन का शब्दकोश ' के बारे में विशेष जानकारी तथा इस पुस्तक को खरीदने के लिए   👉 यहां दबाएं


सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की पुस्तकें मुफ्त में पाने के लिए  शर्तों के बारे में जानने के लिए   यहां दवाएं

---×---

शब्दकोष 40 || रंगीन से रेफरेंस तक के शब्दों के शब्दार्थादि || संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष शब्दकोष 40 || रंगीन से  रेफरेंस  तक के शब्दों के शब्दार्थादि  ||  संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष Reviewed by सत्संग ध्यान on 12/13/2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

सत्संग ध्यान से संबंधित प्रश्न ही पूछा जाए।

Popular Posts

Ad

Blogger द्वारा संचालित.