Ad

Ad

शब्दकोष 07 || अलख से अहंकार तक के शब्दों के शब्दार्थादि || संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष

संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष / अ

     प्रभु प्रेमियों ! ' संतमत+ मोक्ष - दर्शन का शब्दकोश ' नाम्नी प्रस्तुत लेख में ' मोक्ष - दर्शन ' + 'महर्षि मेंहीं पदावली शब्दार्थ भावार्थ और टिप्पणी सहित' + 'गीता-सार' + 'संतवाणी सटीक' आदि धर्म ग्रंथों में गद्यात्मक एवं पद्यात्मक वचनों में आये शब्दों के अर्थ लिखे गये हैं . कोष्ठकों में शब्दों के व्याकरणिक परिचय भी देने का प्रयास किया गया है और शब्दों से संबंधित कुछ सूक्तियों का संकलन किया गया है. जो पूज्यपाद लालदास जी महाराज द्वारा लिखित व संग्रहित  है । धर्मप्रेमियों के लिए यह कोष बड़ी ही उपादेय है । आईए इस कोष के बनाने वाले महापुरुष का दर्शन करें.

अपरम्पार - अलख  तक के शब्दों का अर्थ पढ़ने के लिए   👉  यहां दवाएं

सद्गुरु महर्षि में और बाबा लाल दास जी
लालदास जी और गुरु बाबाबाबा

अलख - अहंकार   तक के शब्द और उसके अर्थ


अलख - अहंकार


अलख ( सं ०, वि ० ) = नहीं  दिखायी पड़नेयोग्य , जो स्थूल या सूक्ष्म किसी भी दृष्टि से देखने में नहीं आए । ( पु० ) परमात्मा 

(अलख = जो देखा न जा सके , अरूप ; यहाँ अर्थ है- सारशब्द , कैवल्य मंडल, सतलोक । P145 )

(अलख पुरुष = वह परम पुरुष जो स्थूल या सूक्ष्म दृष्टि से न देखा जाए , परमात्मा । श्रीचंद वाणी

(अलल ( सं ० अलज ) = एक पक्षी का नाम । P145 )

(अलोल (अ+लोल ) = अडोल, अकंप, जो चंचल नहीं हो, जो कंपायमान नहीं हो । P12 )

अलौकिक ( सं ०, वि ० ) = जो इस लोक का नहीं हो , इस लोक से संबंध नहीं रखनेवाला । 

(अलौकिक = जो इस लोक अर्थात् स्थूल जगत् का नहीं है। P10 ) 

अल्लाहू ( फा ० ) = त्रिकुटी का शब्द । 

अवकाश ( सं ० , पुं ० ) = खाली जगह , वह स्थान जहाँ कुछ नहीं हो । 

(अवकाश = खाली जगह । P06 ) 

अवलम्ब ( सं ० ) = सहारा आधार । 

अवसर ( सं ० , पुं ० ) = मौका , कोई काम करने का उचित समय या परिस्थिति ।  

अविगत ( सं ०, वि ० ) = अज्ञेय , इन्द्रियों के द्वारा नहीं जाननेयोग्य, सर्वव्यापक ।  

अविच्छिन्न ( सं ०, वि ० ) = जो विच्छिन्न नहीं हो , जो टूटा हुआ नहीं हो , अभिन्न, अटूट , लगातार , निरन्तर , मिला हुआ , लगा हुआ । 

अविनाशी ( सं ० , वि ० ) = विनाश रहित , जिसका कभी विनाश नहीं हो । 

{अविरल भक्ति =  अनपायिनी भक्ति , अटूट भक्ति , सदा एक समान बनी रहनेवाली भक्ति । ( अविरल = घना , सघन , निरन्तर , लगातार , अटूट । रामचरितमानस , अरण्यकांड में भी 'अविरल भक्ति ' का प्रयोग हुआ है । देखें - ' अविरल भक्ति माँगि बर , गीध गयउ हरिधाम ।' ) P30 }

अव्यक्त ( सं ० , वि ० ) = जो व्यक्त नहीं हो , किसी भी इन्द्रिय की पकड़ में नहीं आनेवाला , अप्रकट , गुप्त । 

(अव्यक्त ( अ + व्यक्त ) = जो व्यक्त नहीं है , जो प्रत्यक्ष नहीं है , जो इन्द्रियों के ग्रहण में नहीं आ पाए , परम अव्यक्त - परमात्मा । P05 ) 

(अव्यक्त = जो इन्द्रियों के ग्रहण में नहीं आए ; यहाँ अर्थ है - वह आदिनाद जो कर्ण इन्द्रिय के द्वारा सुना नहीं जाता । P05 ) 

(अव्यक्त = जो इन्द्रियों के ग्रहण में नहीं आए । P07

अव्यर्थ ( सं ० , वि ० ) = व्यर्थ नहीं , बेकार नहीं , फल - सहित , अमोघ , अचूक , व्यर्थ ( निष्फल ) नहीं होनेवाला ।

अव्याहत ( सं ० , वि ० ) = बाधा रहित , निरन्तर लगातार ।

अशब्द ( सं ० , वि ० ) = शब्दविहीन , ( पु ० ) शब्दविहीनता , परमात्मा । 

अशांतिपूर्ण ( सं ० , वि ० ) = अशान्ति से भरा हुआ । 

अष्टपदी ( सं ० , वि ० ) = आठ चरणोंवाला । वह पद्य जिसके आठ चरण हों । 

असंभव ( सं ० , वि ० ) = संभव नहीं , नहीं होनेवाला ।  

असत् ( सं ० , वि ० ) = असत्य , नाशवान् , विनाशशील , परिवर्त्तन शील । जड़ प्रकृति । 

(असत् = जो अविनाशी नहीं है , जो विनाशशील या परिवर्तनशील है , जड़ प्रकृति मंडल ।  P01 ) 

(असर = ( अरबी पूँ० ) = प्रभाव, गुण । P11 ) 

असाध्य ( सं ०, वि ० ) = अशक्य , , नहीं हो सकनेवाला , जिसकी साधना नहीं की सके , जिसे साधना के द्वारा प्राप्त नहीं किया जा सके . नहीं प्राप्त करने के योग्य , कठिन । 

(असीम ( अ + सीम ) = सीमा - रहित , अपार , अनन्त । P06 )

अहंकार ( सं ० , पुं ० ) = घमंड , अभिमान , किसी विशेषता के कारण मन में जगा हुआ ऐसा भाव जिसके कारण हम अपने को बड़ा मानने लगते हैं और दूसरों को अपने से छोटा । (अहंकार = घमंड । P07


 आ 


आकर्षण ( सं ० . पुं ० ) = आकर्षित करने का गुण , खिंचाव , खींचने का गुण ।


आकर्षण - आदिनाद    तक के शब्दों का अर्थ पढ़ने के लिए   👉  यहां दवाएं


     प्रभु प्रेमियों ! संतमत की बातें बड़ी गंभीर हैं । सामान्य लोग इसके विचारों को पूरी तरह समझ नहीं पाते । इन पोस्टों  में संत , संतमत , संतमत की उपयोगिता , जड़ प्रकृति , चेतन प्रकृति , आदिनाद , सृष्टि - क्रम , सृष्टि के मंडल , जीव , ब्रह्म , ईश्वर , परमेश्वर , ईश्वर की भक्ति , परम मुक्ति , संतमत की साधना - पद्धतियों ( मानस जप , मानस ध्यान , दृष्टियोग तथा शब्द - साधना ) , साधना - पद्धतियों के अभ्यास से उत्पन्न अनुभूतियों , सद्गुरु की महत्ता , यम - नियम , साधकों के आहार - विहार , सत्संग आदि से संबंधित बातों पर चर्चा की गई हैं । ' 



मोक्ष दर्शन का शब्दकोश
मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष 

प्रभु प्रेमियों ! बाबा लालदास कृत  ' मोक्ष - दर्शन का शब्दकोश ' के बारे में विशेष जानकारी तथा इस पुस्तक को खरीदने के लिए   👉 यहां दबाएं


सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की पुस्तकें मुफ्त में पाने के लिए  शर्तों के बारे में जानने के लिए   यहां दवाएं

---×---

शब्दकोष 07 || अलख से अहंकार तक के शब्दों के शब्दार्थादि || संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष शब्दकोष 07 || अलख से अहंकार  तक के शब्दों के शब्दार्थादि  ||  संतमत+मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष Reviewed by सत्संग ध्यान on 12/09/2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

सत्संग ध्यान से संबंधित प्रश्न ही पूछा जाए।

Popular Posts

Ad

Blogger द्वारा संचालित.