Ad1

3. शेख सादी की शिक्षाप्रद कथाएँ ।। Daranevaale se too bhee dar ।। घबराहट और डर खत्म

3. शेख सादी की शिक्षाप्रद कथाएँ 

प्रभु प्रेमियों ! 'शेख सादी की शिक्षाप्रद कथाएं' नामक पुस्तक में नैतिक , धार्मिक , व्यावहारिक और मनोवैज्ञानिक शिक्षाएँ बड़ी ठोस , अत्यन्त विचारपूर्ण , अनुभव की कसौटी पर कसी हुई और हृदय को छूनेवाली हैं । ये शिक्षाएँ आस्तिक भाव तथा विवेक जगानेवाली , बुद्धिमान् तथा व्यवहार - कुशल बनानेवाली , सम्मान तथा शान्ति के साथ जीवन जीने की कला बतलानेवाली और सत्कर्म की प्रेरणा देनेवाली तथा साहस बँधानेवाली हैं ।

इस पुस्तक की तीसरी कहानी "डरनेवाले से तू भी डर" में आप जानेंगे कि डर क्यों जाते हैं ये डरने वाले लोग, डरनेवाले और डरानेवाले की क्या बात है, मौत से डरने वाले लोग अहिंसा की भी बहुत बात करते हैं । इस संबंध में शेख शादी के विचार क्या हैंं? इसके साथ ही आप निम्न बातों पर भी कुछ-न-कुछ जानकारी प्राप्त कर सकते हैं; जैसे कि बीमारी का डर कैसे दूर करे, मानसिक डर का इलाज, घबराहट और डर खत्म करने का मंत्र, ऊंचाई से डर लगना in English, फोबिया कितने प्रकार के होते हैं, डर कितने प्रकार के होते हैं, फोबिया लिस्ट इन हिंदी, डर और घबराहट,  आदि बातें। इन बातों को समझने के पहले आइए इस कहानी से जुड़े इस सुंदर चित्र को देखें।

इस कहानी के पहले वाले कहानी को पढ़ने के लिए यहां दबाएं ।

Dar aur ghabrahat ke Karan

३. डरनेवाले से तू भी डर 

     हुरमुज ( न्यायप्रिय सम्राट नौशेरवाँ के पुत्र ) से लोगों ने पूछा , “ तूने अपने वालिद ( पिता ) के वजीरों ( मंत्रियों ) में क्या खता ( गलती ) देखी , जो उन्हें कैद करा दिया ? " 

भक्त कवि शेख शादी
शेख शादी
     उसने उत्तर दिया , “ उनकी खता तो मैंने कोई नहीं देखी ; मगर यह जरूर देखा कि वे मुझसे डरते बहुत थे और मेरी बात पर विश्वास नहीं करते थे । मुझे डर हुआ कि अपने अहित की आशंका से कहीं वे मुझे मार डालने की कोशिश न करें । इसलिए मैंने बुजुर्गों की नसीहत पर अमल किया । उन्होंने कहा है- “ ऐ अक्लमन्द ! जो तुझसे डरता है , तू भी उससे डर , चाहे तू उसके जैसे सैकड़ों दुश्मनों को लड़ाई के मैदान में हरा देने की ताकत रखता हो । " 

     साँप चरवाहे के पैर में क्यों काटता है ? वह जानता है कि चरवाहा पत्थर से उसका सिर कुचल देगा । 

     क्या तुझे नहीं मालूम कि बिल्ली जब मजबूर हो जाती है , तो वह पंजा मारकर चीते की आँख निकाल लेती है ।। ∆


इस कहानी के बाद वाले कहानी को  पढ़ने के लिए    यहां दबाएं ।


प्रभु प्रेमियों ! शेख सादी की शिक्षाप्रद कथाएँ के उपर्युक्त कहानी से हमलोगों ने जाना कि बीमारी का डर कैसे दूर करे, मानसिक डर का इलाज, घबराहट और डर खत्म करने का मंत्र, इतनी जानकारी के बाद भी अगर आपके मन में किसी प्रकार का शंका या कोई प्रश्न है, तो हमें कमेंट करें। इस पोस्ट के बारे में अपने इष्ट मित्रों को भी बता दें, जिससे वे भी लाभ उठा सकें। सत्संग ध्यान ब्लॉग का सदस्य बने इससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना नि:शुल्क मिलती रहेगी। निम्न वीडियो में उपर्युक्त वचनों का पाठ किया गया है। इसे भी अवश्य देखें, सुनें।



Sekh shaadi ki shikshaprad kathaen pustak
   अगर आपको 'शेख सादी की शिक्षाप्रद कथाएँ' पुस्तक के बारे में विशेष रूप से जानना हैं या इस पुस्तक के अन्य लेखों को पढ़ना चाहते हैं तो

सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की पुस्तकें मुफ्त में पाने के लिए शर्त के बारे में जानने के लिए   यहां दबाएं।
3. शेख सादी की शिक्षाप्रद कथाएँ ।। Daranevaale se too bhee dar ।। घबराहट और डर खत्म 3. शेख सादी की शिक्षाप्रद कथाएँ ।। Daranevaale se too bhee dar ।।  घबराहट और डर खत्म Reviewed by सत्संग ध्यान on 4/30/2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

सत्संग ध्यान से संबंधित प्रश्न ही पूछा जाए।

Blogger द्वारा संचालित.