Ad

Ad

LS02 भाग 1 क || सृष्टि निर्माण कैसे हुआ Srshti nirmaan kaise hua || परमात्मा और सृष्टि-निर्माण

संतमत-दर्शन व्याख्या भाग 1 क

     प्रभु प्रेमियों ! संतमत-दर्शन के प्रथम भाग के प्रथम पोस्ट में  ईश-स्तुति के प्रथम श्लोक का व्याख्या किया गया है. जिसे 5 भागों में बांटा गया है. आइए इस पोस्ट में हम लोग प्रथम भाग का अध्ययन करेंगे. जिसमें सृष्टि निर्माण कैसे हुआ ? ईश्वर की उत्पत्ति कैसे हुई? सृष्टि की उत्पत्ति कैसे हुई? ब्रह्मांड की उत्पत्ति कैसे हुई? सृष्टि की रचना कब हुई थी? सृष्टि रचना की कथा, सृष्टि की रचना कब और कैसे हुई? ईश्वर की उत्पत्ति कैसे हुई? मनुष्य सृष्टि क्या है? सृष्टि चक्र, सृष्टि निर्माण, अज- अनादि आदि शब्दों का विशेष रूप से व्याख्या किया गया है. आइए गुरु महाराज सहित इस पुस्तक के व्याख्याकार का दर्शन करें.

बाबा लालदास और गुरु महाराज
बाबा लालदास और गुरुदेव

         ॥ ईश - स्तुति ॥


सब क्षेत्र क्षर अपरा परा पर , औरु अक्षर पार में । 
निर्गुण सगुण के पार में , सत असत हू के पार में ॥१ ॥ 
सब नाम रूप के पार में , मन बुद्धि वच के पार में । 
गो गुण विषय पँच पार में , गति भाँति के हू पार में ॥२ ॥ 
सूरत निरत के पार में , सब द्वन्द्व द्वैतन्ह पार में । 
आहत अनाहत पार में , सारे प्रपंचन्ह पार में ॥३ ॥ 
सापेक्षता के पार में , त्रिपुटी कुटी के पार में । 
सब कर्म काल के पार में , सारे जंजालन्ह पार में ॥४ ॥ 
अद्वय अनामय अमल अति, आधेयता गुण पार में, 
सत्तास्वरूप अपार सर्वाधार मैं - तू पार में ॥५ ॥ 
पुनि ओम् सोऽहम् पार में , अरु सच्चिदानंद पार में । 
हैं अनन्त व्यापक व्याप्य जो, पुनि व्याप्य व्यापक पार में ॥६ ॥ हैं हिरण्यगर्भहु खर्व जासों , जो हैं सान्तन्ह पार में । 
सर्वेश हैं अखिलेश हैं , विश्वेश हैं सब पार में ॥७ ॥ 
सतशब्द धरकर चल मिलन , आवरण सारे पार में । 
सद्गुरु करुण कर तर ठहर , धर ' मेँहीँ ' जावे पार में ॥८ ॥

     उपरिलिखित पद्य ' महर्षि मेंहीँ - पदावली ' का प्रथम पद्य है । इसमें ईश्वर का गुणगान करते हुए उसका स्वरूप ही बतलाया गया है । इस पुस्तक में इसी पद्य की पूरी व्याख्या करने का नम्र प्रयास किया जा रहा है । 

श्लोक नंबर 1

सब क्षेत्र क्षर अपरा परा पर , और अक्षर पार में । 
निर्गुण सगुण के पार में , सत असत हू के पार में ॥१ ॥ 

पद्यार्थ - परमात्मा सब शरीरों ( स्थूल , सूक्ष्म , कारण , महाकारण औरकैवल्य ) से रहित है । वह क्षर , अपरा , सगुण तथा असत् कही जानेवाली जड़ प्रकृति और अक्षर , परा , निर्गुण तथा सत् कही जानेवाली चेतन प्रकृति से भी श्रेष्ठ तथा ऊपर है ।

व्याख्या - भाग → 1 क

सृष्टि निर्माण कैसे हुआ ? Srshti nirmaan kaise hua

     संसार में कोई भी पदार्थ या कार्य बिना कारण के नहीं होता हुआ देखा जाता । कुम्हार मिट्टी से घड़ा बनाता है । यहाँ घड़ा कार्य है और कुम्हार एवं मिट्टी उसके कारण । इन दोनों कारणों में कुम्हार को निमित्त कारण और मिट्टी को उपादान कारण कहा जाएगा । चाक , डंडा आदि अन्य पदार्थ भी , जो घड़े के बनाने के काम में प्रयुक्त किये जाते हैं , निमित्त कारण के ही अंतर्गत लिये जाएँगे ।

     जो कार्य करे या जिसकी सहायता से कोई कार्य हो , उसे निमित्त कारण कहते हैं । वह वस्तु , जिससे कोई कार्य हो या जिससे कोई पदार्थ उसे उपादान बने अथवा जो सामग्री स्वयं कार्य के रूप में परिणत हो जाए , कारण कहते हैं । निमित्त कारण गौण कारण है और उपादान कारण प्रधान डंडा कारण ; क्योंकि हम देखते हैं कि घड़ा बनने के बाद कुम्हार , चाक , आदि उससे बिल्कुल अलग हो जाते हैं ; परन्तु उपादान कारण - रूप मिट्टी कार्यरूप घड़े से कभी भी अलग नहीं की जा सकती । 

     संसार में जो कुछ भी सृजित हुआ है , उसका कुछ - न - कुछ अथवा कोई - न - कोई कारण अवश्य है । परमात्मा लौकिक तत्त्व नहीं है । वह परम अलौकिक तत्त्व है । वह सबका कारण है ; परन्तु उसका कारण कुछ भी या कोई भी नहीं है । उसमें कारण - कार्य का नियम लागू नहीं होता । 

कारण कारज भेद नहीं कछु , आपमें आपहिं आप तहाँ है । ( संत सुन्दरदासजी ) 

मूल न फूल बेलि नहिं बीजा , बिना बृच्छ फल सोहै । ( संत कबीर साहब ) 

     परमात्मा अज ( अजन्मा ) कहलाता है । वह न कभी उत्पन्न हुआ है और न कभी उत्पन्न होगा । वह है ही और रहेगा ही । उसका कोई या कुछ उपादान कारण नहीं है । उसकी स्थिति का निमित्त कारण तथा उपादान कारण वह स्वयं ही है , कोई दूसरा पदार्थ नहीं । 

     सृष्टि के लिए कहा जाता है कि उसका निमित्त कारण परमात्मा है और उपादान कारण प्रकृति । 

     हम जानते हैं कि घड़े का निमित्त कारण कुम्हार और उपादान कारण मिट्टी- ये दोनों अलग - अलग सत्ताएँ होती हैं । मिट्टी पहले से बनी होती है , जिससे कुम्हार घड़ा बनाता है । स्वयं कुम्हार घड़ा नहीं बन जाता । वह अपने हस्त - कौशल से मिट्टी को एक विशेष आकृति देकर घड़ा बना लेता है । 

     यदि कहा जाए कि परमात्मा की तरह प्रकृति भी पहले से ही है अर्थात् परमात्मा और प्रकृति- दोनों अनादि ( उत्पत्ति - रहित ) हैं , दोनों के पहले दोनों से भिन्न कोई तीसरा पदार्थ नहीं था , परमात्मा प्रकृति को उत्पन्न नहीं करता , वह पहले से ही स्थित प्रकृति से सृष्टि करता है , जैसा कि कुम्हार पहले से ही बनी हुई मिट्टी से घड़ा बनाता है , तो ऐसा कहना असत्य होगा । 

     उत्पत्ति के विचार से दो पदार्थ अनादि नहीं हो सकते । उनमें से कोई एक दूसरे से पहले का अवश्य होगा , नहीं तो दोनों एक - दूसरे के अखंडित ( अभिन्न ) अंश होंगे । दो पदार्थों का ज्ञान होने के लिए उनके बीच शून्य होना चाहिए । यदि शून्य नहीं है , तो दोनों एक ही अखंडित पदार्थ होंगे और यदि शून्य होगा , तो वही शून्य उन दोनों पदार्थों से पहले का तत्त्व माना जाएगा । इसलिए उत्पत्ति के विचार से एक ही तत्त्व आदितत्त्व या अनादि तत्त्व होगा , दो नहीं । सांख्य दर्शन ब्रह्म की सत्ता को नकारते हुए दो पदार्थों को अनादि ( उत्पत्ति - रहित ) मानता है , वे हैं- पुरुष ( चेतन प्रकृति ) और प्रकृति ( जड़ प्रकृति ) । संतमत सांख्य दर्शन के इस विचार को नहीं मानता है । 

     [ ' अनादि ' ( अन् + आदि - न + आदि ) के तीन अर्थ हैं- १. आदि , मध्य और अन्त - रहित , २. उत्पत्ति - रहित और ३. जिसके पूर्व दूसरा कोई पदार्थ नहीं हो । ' अनादि ' का विपरीतार्थक शब्द सादि है । ' सादि ' ( स + आदि ) के भी तीन अर्थ हैं- १. जिसका आदि , मध्य और अन्त बताया जा सके , २. जिसकी कभी उत्पत्ति हुई हो और ३. जिसके पूर्व दूसरा कोई पदार्थ हो । अज , अनादि तथा सादि पुँल्लिंग विशेषण हैं और अजा , अनाद्या तथा साद्या स्त्रीलिंग विशेषण । ] 

     परमात्मा ही सबसे पहले का है । प्रकृति उसके पीछे उसी के द्वारा बनी है । इसलिए प्रकृति अजा नहीं कहला सकती । वह स्वतंत्र नहीं है । वह परमात्मा के अधीन है और उसी की सत्ता पर एक महान् यंत्र की नाईं पचालित हो रही है । 

    प्रकृति के आदि में परमात्मा था । इसलिए परमात्मा को आदितत्त्व कहते हैं । परमात्मा के आदि में उससे भिन्न दूसरा कोई पदार्थ नहीं था । इसलिए उसे अनादि तत्त्व भी कहते हैं । परमात्मा कहाँ है और कबसे है ,यह बताने के लिए देश - काल का ज्ञान होना चाहिए ; परन्तु परमात्मा देश - काल में नहीं है । प्रकृति के बनने पर ही देश - काल बने हैं । प्रकृति परमात्मा से पीछे बनी है । इसलिए परमात्मा का देश ( स्थान ) और काल ( समय ) नहीं बतलाया जा सकता । देश और काल की दृष्टि से भी परमात्मा अनादि है । 

     प्रकृति उत्पत्ति के विचार से साद्या ( आदि - सहित ) है ; क्योंकि उसके आदि में कुछ था और वह है परमात्मा । प्रकृति भी देश - काल में नहीं उपजी है । प्रकृति के बनने पर ही देश - काल बने हैं । इसलिए प्रकृति के भी उत्पन्न होने का देश और काल नहीं बताये जा सकते । इस दृष्टि से ( देश - काल की दृष्टि से ) प्रकृति अनाद्या है । यदि देश - काल की दृष्टि से प्रकृति को अनादि ( अनाद्या ) कहा जाए , तो परमात्मा को अनादि का भी आदि कह सकते हैं । उत्पत्ति के विचार से प्रकृति अनाद्या नहीं है ।

     संसार में जो कुछ भी क्रिया होती है , उससे संबंधित वस्तुओं में कंपन होता है और उस कंपन से शब्द होता है । शब्द भी स्वयं कम्पनमय होता है । हम मिट्टी की एक गोली बनाते हैं । उस समय भी हमारी उँगलियों में और बनायी जाती हुई गोली में कम्पन होता है , जिससे शब्द की उत्पत्ति होती है । संत - महात्मा कहते हैं कि शब्द से ही सृष्टि हुई है । 

साधो सब्द साधना कीजै । 
जेहि सब्द से प्रगट भये सब , सोई सब्द गहि लीजै ॥
                                                 ( संत कबीर साहब ) 

     सृष्टि निर्माण के लिए परमात्मा से पहले - पहल जो शब्द स्फुटित हुआ , वह आदिनाद कहलाता है । परमात्मा के द्वारा किसी पदार्थ में ठोकर दिये जाने पर आदिनाद उत्पन्न नहीं होता । आदिनाद उत्पन्न होने पर ही कोई पदार्थ बनता है । उसके पूर्व परमात्मा के अतिरिक्त दूसरा कुछ नहीं होता । परमात्मा से आदिनाद उत्पन्न होता है ; परन्तु ऐसा होते हुए भी परमात्मा अकम्पित रहता है । परमात्मा अनंत है , उसे काँपने के लिए स्थान ही कहाँ है ? अनन्त परमात्मा अत्यन्त सघनता से एकरस सर्वत्र व्यापक है । उसमें लचकन , सिकुड़न , कंपन या गति नहीं हो सकती ; देखें 

न लचकन न सिकुड़न न कंपन है जामें । 
न   संचालना   नाहिं   विस्तृत्व    जामें ॥ 
                      ( महर्षि मेँहीँ - पदावली , ४२ वाँ पद्य ) ..... 

दूसरे पोस्ट में जानेंगे परमात्मा सर्व समर्थ होते हुए सृष्टि निर्माण कैसे करता है? अवश्य पढ़े.

व्याख्या के शेष भाग को पढ़ने के लिए 👉यहाँ दवाएं


     प्रभु प्रेमियों ! इस पोस्ट का पाठ करके हम लोगों ने सृष्टि कर्म और उत्पत्ति के बारे में जाना अगर आपको इस तरह का पोस्ट पसंद है, तो इससे ब्लॉग को सब्सक्राइब कर लें, इससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना ईमेल द्वारा नि:शुल्क प्राप्त होती रहेगी. इस बात को अपने इष्ट मित्रों को अवश्य बता दें जिससे उसको भी लाभ हो. फिर मिलते हैं दूसरे पोस्ट में . जय गुरु महाराज!  निम्न विडियो में उपरोक्त लेख का पाठ करके सुनाया गया है.



संतमत-दर्शन पुस्तक की एक झलक

संतमत-दर्शन बुक
संतमत दर्शन

प्रभु प्रेमियों ! अगर आप संतमत-दर्शन पुस्तक के बारे में विशेष रूप से जानना चाहते हैं या इसे खरीदना चाहते हैं तो  यहाँ👉 यहां दवाएँ.

 इस पुस्तक को खरीदने पर एक विशेष उपहार पानेवाले के लिए आवश्यक शर्तें जाने  👉 दवाएं.

---×---

LS02 भाग 1 क || सृष्टि निर्माण कैसे हुआ Srshti nirmaan kaise hua || परमात्मा और सृष्टि-निर्माण LS02  भाग 1 क || सृष्टि निर्माण कैसे हुआ Srshti nirmaan kaise hua || परमात्मा और सृष्टि-निर्माण Reviewed by सत्संग ध्यान on 10/31/2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

सत्संग ध्यान से संबंधित प्रश्न ही पूछा जाए।

Popular Posts

Ad

Blogger द्वारा संचालित.