11/04/2021

LS02 भाग 1 ग || प्रकृति की उत्पत्ति कैसे हुई || how nature originated || संतमत दर्शन

संतमत-दर्शन ब्याख्या भाग 1 ग

     प्रभु प्रेमियों ! संतमत में ईश्वर की बड़ी महिमा गायी गई है. ईश्वर स्वरूप की ऐसी विशेषता है कि उसको एक बार जान लेने से मनुष्य को बार-बार मनुष्य का ही शरीर प्राप्त होता रहता है, जब तक कि जानकार को मोक्ष नहीं मिल जाता .  इसलिए ईश्वर स्वरूप को अच्छी तरह से इसे पुस्तक में समझाया गया है. आईए इसी सीरीज के तीसरे भाग का पाठ करें. पाठ के व्याख्याकार के दर्शन करें.

इस पोस्ट के पहले वाले पोस्ट को पढ़ने के लिए  यहाँ दवाएं.

बाबा लालदास जी और गुरुदेव
बाबा लालदास जी और गुरुदेव

प्रकृति की उत्पत्ति कैसे हुई  how nature originated

     प्रभु प्रेमियों ! संतमत दर्शन के इस व्याख्या भाग में निम्नलिखित विषयों पर चर्चा किया गया है - साम्यावस्थाधारिणी क्या है? पिण्ड - ब्रह्मांड कैसे बनते हैं, पहले युगल प्रकृतियां बनी या आदिनाद? शब्द कैसे गमन करता है? क्रियात्मक कौन-सा गुण है? व्यष्टि चेतन क्या है? सत् और अक्षर किसे कहते हैं? आइये व्याख्या के आगला लेख पढ़े-

व्याख्या भाग 1 ग
     प्रकृति दो प्रकार की है - परा प्रकृति अर्थात् चेतन प्रकृति और अपरा प्रकृति अर्थात् जड़ प्रकृति । जड़ प्रकृति को मूल प्रकृति भी कहते हैं । मूल प्रकृति सत्त्व , रज और तम - इन तीन गुणों की समान - समान मात्राओं का मिश्रण - रूप है । जैसे रस्सी के तीन टुकड़ों के एक - एक छोर को आपस में बाँध दिया जाए और तीन समान बलवाले व्यक्ति रस्सी के दूसरे एक - एक छोर को पकड़कर और तीन दिशाओं में खड़े होकर अपनी - अपनी ओर खींचें , तो उसमें कोई हलचल नहीं होगी , इसी प्रकार मूल प्रकृति में तीनों गुण समान रहने पर उसमें कोई हलचल नहीं होती । अपने इस रूप में मूल प्रकृति साम्यावस्थाधारिणी कहलाती है ।

     ' सत्संग - सुधा , प्रथम भाग ' के पृ० ९८ के ' मुक्ति और उसकी साधना ' शीर्षक प्रवचन में गुरुदेव कहते हैं कि “ मैं एक हूँ , अनेक हो जाऊँ- जब ईश्वर की यह मौज होती है , तब उस प्रकृति में उनकी मौजरूपी वेग से उसके जिस भाग में ठोकर लगी , उस भाग में स्थित य गुणों में से किसी में उत्कर्ष तथा किसी में अपकर्ष हुआ और वह भाग कंपित हो गया । यही कम्पित भाग कारणरूप है , जिससे अनेक पिण्ड - ब्रह्मांड बनते हैं."

     यहाँ ' प्रकृति ' शब्द जड़ात्मिका मूल प्रकृति के लिए ही प्रयुक्त हुआ है ; क्योंकि वही त्रय गुण - सहित है । इस उद्धरण से यह साफ तौर पर जाहिर होता है कि पहले मूल प्रकृति बनती है और तब परमात्मा की मौज से उसपर ठोकर लगती है ; परन्तु गुरुदेव ' सत्संग - योग ' के चतुर्थ भाग के पाराग्राफ ३२ में लिखते हैं कि “ युगल प्रकृतियों के बनने के पूर्व आदिनाद अवश्य प्रकट हुआ । ” तब यह कहना पड़ता है कि पहले परमात्मा से उत्पन्न आदिनाद से दोनों प्रकृतियाँ बनती हैं , फिर आदिनाद या मौज से मूल प्रकृति के किसी भाग में ठोकर लगने पर रचना होती है । शब्द की चोट किसी वस्तु पर अवश्य पड़ती है । जोर से बादल के गरजने पर या बगल में नगाड़े आदि वाद्य यंत्रों के बजने पर हम प्रत्यक्ष अनुभव करते हैं कि हमारे हृदय पर आघात पहुँच रहा है । यह आघात शब्द के ही द्वारा होता है और शब्द के काँपे बिना यह आघात नहीं हो सकता । कंपन के कारण ही शब्द एक जगह से दूसरी जगह गमन करता है । 

ब्रह्मांड की उत्पत्ति कैसे हुई ? https://www.scientificworld.in/2014/09/universe-facts-in-hindi.html
ब्रह्मांड

     ' सत्संग - सुधा , प्रथम भाग ' के ऊपर लिखे उद्धरण से यह भी स्पष्ट होता है कि मूल प्रकृति के किसी भाग विशेष में मौज की ठोकर लगने से पिंड और ब्रह्मांड - दोनों बनते हैं । ' सत्संग - योग ' के चतुर्थ भाग के पाराग्राफ ३८ में यह कहा गया है कि मूल प्रकृति के किसी भाग में जब गुणों का उत्कर्ष होता है , तब उस भाग में सम अवस्था नहीं रह जाती , उसी असम अवस्था से विश्व ब्रह्मांडों की रचना होती है । इसमें यह नहीं बतलाया गया है कि गुणों का उत्कर्ष क्यों होता है । यह भी नहीं बतलाया गया है कि किसी गुण में अपकर्ष भी होता है और मूल प्रकृति के भाग विशेष में गुणोत्कर्ष होने से पिंड भी बनता है । 

     ऊपर में उद्धृत गुरुदेव के वचनों में मेल बिठाने के लिए ऐसा कह सकते हैं कि परमात्मा से उत्पन्न आदिनाद से परा और अपरा - दोनों प्रकृतियाँ बनती हैं । पुनः आदिनाद से अपरा प्रकृति ( जड़ात्मिका मूल प्रकृति ) के किसी भाग विशेष में ठोकर लगती है , जिससे पहले - पहल रजोगुण में उत्कर्ष होता है ; क्योंकि रजोगुण ही क्रियात्मक है । रजोगुण में उत्कर्ष होने से अन्य दो सत्त्व और तम गुणों में अपकर्ष का होना स्वाभाविक ही है । जड़ात्मिका मूल प्रकृति के कंपित भाग से विश्व - ब्रह्मांडों की रचना होती है । 

     विश्व - ब्रह्मांडों में केवल समष्टि प्राण ( आदिनाद ) व्याप्त है और पिंड में आदिनाद तथा परा प्रकृति का भी अंश व्याप्त है । पिंड में व्याप्त परा प्रकृति का अंश सुरत या व्यष्टि चेतन कहलाता है । व्यष्टि चेतन के कारण प्राणियों के पिंड जीवित रहते हैं । पिण्ड से व्यष्टि चेतन के निकल जाने पर पिंड मर जाता है अर्थात् निष्क्रिय हो जाता है ; परन्तु वह पिंड विघटित होकर भी पाँच तत्त्वों के रूप में आदिनाद के कारण अपना अस्तित्व कायम रखता है ।

      पिंड बनने के लिए परा और अपरा - दोनों प्रकृतियों का संयोग होना आवश्यक है । यह संयोग आदिनाद के द्वारा ही कराया जाना संभव है । ' सत्संग - योग ' के चतुर्थ भाग के पाराग्राफ २० में गुरुदेव ने परा और अपरा- दोनों प्रकृतियों से पिंड बनने की बात लिखी ही है । 

     सामान्यतः नष्ट नहीं होनेवाले पदार्थ को अक्षर तथा सत् कहते हैं । नाना रूपों में परिवर्त्तित नहीं होते रहने के कारण ही परा प्रकृति को गुरुदेव ने अक्षर और सत् कहा है , यद्यपि परा प्रकृति भी कभी प्रभु की मौज से प्रभु में विलीन हो जाएगी । किसी वस्तु का परिवर्त्तित होना भी उसका नाश होना कहलाता है । परा प्रकृति परिवर्त्तित नहीं होती , इसीलिए वह सत् और अक्षर कहलाती है । परमात्मा और परा प्रकृति - दोनों एकरस रहते हैं , उनमें परिवर्त्तन नहीं होता ; परन्तु परमात्मा कभी भी नष्ट न होनेवाला और गतिहीन है , जबकि परा प्रकृति विनाशशील तथा गतिमान् है । महाभारत के शान्तिपर्व ( उत्तरार्ध , मोक्ष - धर्म ) , अध्याय १०४ में भी परा प्रकृति को रूपान्तर - दशा से रहित बतलाया गया है । गीता , अ ० १५ , श्लोक १६ में परा प्रकृति को ही अक्षर कहा गया है । 

     परा प्रकृति अर्थात् चेतन प्रकृति सदा एकरस बनी रहती है । उसमें कभी किसी प्रकार का परिवर्त्तन नहीं होता । इसी परा प्रकृति का कुछ अंश हमारे शरीर और अंत : करण के साथ घुल - मिल गया है , जिसे व्यष्टि चेतन या सुरत कहते हैं । इसी व्यष्टि चेतन के कारण हमारी इन्द्रियाँ बाहरी विषयों का ज्ञान करती हैं । हमारा पांचभौतिक शरीर प्रति क्षण बदलता रहता है । इसमें क्रमश : बाल्य , यौवन और वार्द्धक्य अवस्थाएँ आती हैं ; परन्तु शरीर के अंदर स्थित चेतन तत्त्व ज्यों - का - त्यों रहता है । जब हमारी आँखों में विकार आ जाता है , तो संसार की वस्तुएँ हमें भिन्न रूपों में दिखलायी पड़ने लग जाती हैं । इसी प्रकार यदि हमारे व्यष्टि चेतन में भी विकार होता रहता , तो इन्द्रियों के दुरुस्त रहने पर भी संसार की वस्तुएँ  भिन्न रूपों में दिखलायी पड़ने लगतीं , परन्तु ऐसा नहीं होता । नेत्र इन्द्रिय के ठीक रहने पर हम सदैव कौओं को काला ही देखते हैं । भाँग , शराब आदि नशीले पदार्थों के सेवन से उत्पन्न मानसिक स्थिति में हम जो वस्तुओं को भिन्न रूपों में देखते हैं , वह इन्द्रियों के भ्रमित हो जाने के कारण , न कि शरीरस्थ चेतन तत्त्व के बदल जाने के कारण । इसलिए मानना पड़ता है कि चेतन तत्त्व में विकृति नहीं आती । 

     चेतन प्रकृति को ही परा प्रकृति कहते हैं । ' परा ' विशेषण है , जो स्त्रीलिंग शब्द के पहले लगता है । ' प्रकृति ' स्त्रीलिंग है , इसलिए इसके पहले ' परा ' शब्द लगा है । पुल्लिंग शब्द के पहले ' पर ' लगेगा । ' परा ' का अर्थ है- जो श्रेष्ठ हो , जो ऊपर हो । चेतन प्रकृति जड़ प्रकृति से श्रेष्ठ तथा ऊपर और परिवर्त्तन - रहित है , इसमें ज्ञान करने की शक्ति है तथा यह आनंदरूपा है । इसमें क्रिया करने की भी शक्ति है । इसे हम देख नहीं पाते ; परन्तु इसके अस्तित्व का अनुमान हम इसकी क्रियाओं को देखकर करते हैं । जबतक शरीर में चेतन रहता है , तभी तक वह सचेष्ट रहता है । चेतन के निकल जाने पर वह निश्चेष्ट हो जाता है । 

     जड़ प्रकृति को ही अपरा प्रकृति कहते हैं । ' क्षर ' और ' असत् ' का अर्थ है- नष्ट होनेवाला । नाना रूपों में परिवर्तित होते रहने के कारण ही अपरा प्रकृति को गुरुदेव ने क्षर और असत् कहा है । जड़ प्रकृति भी कभी प्रभु की मौज से नष्ट हो जाएगी । गीता , अ ० १५ में सब नाशवान् भूतों को ' क्षर ' कहा गया है ।

     जड़ प्रकृति आकाश , वायु , अग्नि , जल , मिट्टी , मन , बुद्धि और अहंकार - इन आठ प्रकारों में विभाजित है । ( देखें - गीता , अ ० ७ ) जड़ प्रकृति सदैव नाना रूपों में बदलती रहती है । हम देखते हैं कि जब किसी वृक्ष से चेतन निकल जाता है , तो वह सूख जाता है । यदि उसे जलाते हैं , तो वह राख में बदल जाता है । लकड़ी जमीन के नीचे बहुत दिनों तक पड़ी रह जाने से कोयले में बदल जाती है । वाष्प ठंढा होने पर जल और जल ठंढा होने पर बर्फ बन जाता है । एक ऊर्जा दूसरी ऊर्जा में बदल जाया करती है । विद्युत् ऊर्जा ताप ऊर्जा में और ताप ऊर्जा प्रकाश ऊर्जा में बदल जाती है । शरीर से चेतन तत्त्व के निकल जाने पर शरीर विकृत हो जाता है । 

     हमारे मन , बुद्धि और अहंकार की भी एक - सी अवस्था नहीं रह पाती , इनमें भी परिवर्त्तन होता रहता है । मन में तरह - तरह की तरंगें उठती रहती हैं । कभी मन पाप की ओर झुक जाता है , तो कभी पुण्य की ओर । बुद्धि भी कभी सत्य को असत्य तथा कभी असत्य को सत्य और कभी अनुचित को उचित तथा कभी उचित को अनुचित मानती है । अहंकार के परिवर्तित होते रहने के कारण हम अपने को कभी निर्धन , तो कभी धनवान् , कभी बुद्धिमान् , तो कभी बुद्धिहीन और कभी शरीर , तो कभी आत्मा मानने लगते हैं । यह देखकर हमें मानना पड़ता है कि जड़ प्रकृति नाना रूपों में बदलती रहती है ।...


अगला पोस्ट में जानेंगे स्थूल, सूक्ष्म, कारण, महाकारण, कैवल्य और क्षेत्र आदि शरीर कैसे बनते हैं ? अवश्य पढ़े.

व्याख्या के शेष भाग को पढ़ने के लिए 👉यहाँ दवाएं


     प्रभु प्रेमियों ! इस पोस्ट का पाठ करके हम लोगों ने साम्यावस्थाधारिणी क्या है? पिण्ड - ब्रह्मांड कैसे बनते हैं, पहले युगल प्रकृतियां बनी या आदिनाद? शब्द कैसे गमन करता है? क्रियात्मक कौन-सा गुण है?  के बारे में जाना अगर आपको इस तरह का पोस्ट पसंद है, तो इस ब्लॉग को सब्सक्राइब कर लें, इससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना ईमेल द्वारा नि:शुल्क प्राप्त होती रहेगी. इस बात को अपने इष्ट मित्रों को भी अवश्य बता दें, जिससे उनको भी लाभ हो. फिर मिलते हैं दूसरे पोस्ट में . जय गुरु महाराज!  निम्न विडियो में उपरोक्त लेख का पाठ करके सुनाया गया है.


संतमत-दर्शन पुस्तक की एक झलक

संतमत-दर्शन बुक
संतमत दर्शन

 अगर आप संतमत-दर्शन पुस्तक के बारे में विशेष रूप से जानना चाहते हैं या इसे खरीदना चाहते हैं तो  यहाँ👉 यहां दवाएँ.

      इस पुस्तक को खरीदने पर एक विशेष उपहार पानेवाले के लिए आवश्यक शर्तें जाने  👉 दवाएं.

---×---

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सत्संग ध्यान से संबंधित प्रश्न ही पूछा जाए।