Ad

Ad

LS02 भाग 1 घ || सतोगुण, रजोगुण और तमोगुण के कार्य || Functions of Rajoguna,Satogun

संतमत-दर्शन ब्याख्या भाग 1 घ

     प्रभु प्रेमियों ! संतमत में ईश्वर की बड़ी महिमा गायी गई है. ईश्वर स्वरूप की ऐसी विशेषता है कि उसको एक बार जान लेने से मनुष्य को बार-बार मनुष्य शरीर का ही शरीर प्राप्त होता रहता है, जब तक कि जानकार को मोक्ष नहीं मिल जाता . तब तक उसे मनुष्य शरीर ही मिलता रहता है इसलिए ईश्वर स्वरूप को अच्छी तरह से इसे पुस्तक में समझाया गया है.आईए इसी सीरीज के चौथे भाग का पाठ करें. पाठ के व्याख्याकार के दर्शन करें.

इस पोस्ट के पहले वाले पोस्ट को पढ़ने के लिए  यहाँ दवाएं.

बाबा लालदास और गुरुदेव
बाबा लालदास जी और गुरुदेव

सतोगुण, रजोगुण और तमोगुण के कार्य

     प्रभु प्रेमियों ! संतमत दर्शन के इस व्याख्या भाग में निम्नलिखित विषयों पर चर्चा किया गया है - जड़ प्रकृति किन रूपों में बदलती है, अपरा प्रकृति किसे कहते हैं? प्राणी किससे उत्पन्न होता है? रजोगुण , सत्त्वगुण और तमोगुण के क्या कार्य है? तीनों गुणों के रंग कौन-सा है? चेतन प्रकृति कैसा है? जड़ प्रकृति कैसा है? जड़ प्रकृति से क्या-क्या बनते हैं? क्षेत्र किसे कहते हैं? स्थूल शरीर किन-किन चीजों से बना है? सूक्ष्म शरीर में क्या-क्या है? जीवात्मा का पुनर्जन्म क्यों होता है? स्थूल, सूक्ष्म, कारण और महाकारण कैसे बनता है?  आइये लेखक के व्याख्या का आगला लेख पढ़े-

व्याख्या भाग 1 घ

   हमारे मन , बुद्धि और अहंकार की भी एक - सी अवस्था नहीं रह पाती , इनमें भी परिवर्त्तन होता रहता है । मन में तरह - तरह की तरंगें उठती रहती हैं । कभी मन पाप की ओर झुक जाता है , तो कभी पुण्य की ओर । बुद्धि भी कभी सत्य को असत्य तथा कभी असत्य को सत्य और कभी अनुचित को उचित तथा कभी उचित को अनुचित मानती है । अहंकार के परिवर्तित होते रहने के कारण हम अपने को कभी निर्धन , तो कभी धनवान् , कभी बुद्धिमान् , तो कभी बुद्धिहीन और कभी शरीर , तो कभी आत्मा मानने लगते हैं । यह देखकर हमें मानना पड़ता है कि जड़ प्रकृति नाना रूपों में बदलती रहती है ।

     ' अपरा ' का अर्थ है- जो श्रेष्ठ नहीं हो , नीचे हो । जड़ प्रकृति चेतन प्रकृति से निम्न कोटि की और अपना मंडल नीचे रखनेवाली है । इसीलिए इसे अपरा प्रकृति कहते हैं । यह परिवर्त्तनशील , ज्ञान - विहीन और निरानंद है । इसमें स्वतः कार्य करने की शक्ति नहीं है । हम देखते हैं कि चेतन के निकल जाने पर शरीर किसी भी प्रकार की चेष्टा नहीं कर पाता । 

     गीता , अ ० ७ , श्लोक ४-५ में अपरा तथा परा- दो प्रकृतियों का वर्णन है और कहा गया है कि इन्हीं दोनों प्रकृतियों से सभी प्राणी उत्पन्न होते हैं । 

     संसार में हमें किसी भी पदार्थ में तीन प्रकार की शक्तियों के काम करने का अनुमान होता है । कोई शक्ति किसी पदार्थ को उत्पन्न करती है , दूसरी शक्ति उसका पोषण करती है और तीसरी शक्ति उसका विनाश कर देती है । इन शक्तियों को हम क्रमशः रजोगुण , सत्त्वगुण और तमोगुण कहते हैं । यहाँ ' गुण ' का अर्थ प्रकृति का स्वभाव है । इन गुणों को हम देख नहीं पाते । इनके कार्यों से इनके होने का अनुमान होता है । हमारे शरीर की उत्पत्ति में रजोगुण कारण है और उसी के द्वारा शरीर बढ़ता है । सत्त्वगुण उसका पोषण करते हुए उसका अस्तित्व बनाये रखता है । तमोगुण के कारण शरीर बदलता रहता है और अंत में नष्ट हो जाता है । में एक वृक्ष उत्पन्न होता है , कुछ काल तक ठहरता है और अन्त में सूख जाता है । किसी पदार्थ का उत्पन्न होना , कुछ काल ठहरना और अन्त में नष्ट हो जाना- यह क्रमशः रजोगुण , सत्त्वगुण और तमोगुण के कारण होता है । इसीलिए रजोगुण को उत्पादक शक्ति , सत्त्वगुण को पालक शक्ति और तमोगुण को विनाशक शक्ति कहते हैं । 

     ये त्रय गुण हमारी मानसिक अवस्था में भी परिवर्त्तन लाते हैं । बहुत खा लेने के बाद हम देखते हैं कि हमारी बुद्धि मन्द हो जाती है , असावधानी बढ़ती है और आलस्य तथा निद्रा सताने लगती है । ऐसा तमोगुण के कारण होता है । तमोगुण में हम उचित को अनुचित मानने लगते हैं । सांसारिक कामों की ओर अधिक खिंचाव , लोभ - लालच की वृद्धि और चंचलता रजोगुण के कारण होती है । इसमें हमारा ज्ञान तथा निर्णय स्थिर नहीं रह पाता । सत्त्वगुण की वृद्धि होने पर मन में स्थिरता तथा चैन रहता है ; विवेक जाग्रत् रहता है , जिससे हम उचित - ही - उचित कर्म करते हैं और शरीर तथा मन में सहज स्फूर्ति रहती है । 

     ये तीनों गुण किसी वस्तु में एक ही साथ काम करते हैं ; परन्तु हाँ , कभी कोई प्रबल हो उठता है , तो कभी कोई । एक के प्रबल होने पर अन्य दो दबे रहते हैं । सत्त्वगुण का रंग उजला , रजोगुण का रंग पीला और तमोगुण का रंग काला बतलाया गया है । 

     चेतन प्रकृति परिवर्त्तन - रहित है । इसलिए ये तीनों गुण उसमें नहीं माने जा सकते । यदि चेतन प्रकृति में भी ये तीन गुण माने जाएँ , तो वह परिवर्तनशील मानी जाएगी ; क्योंकि किसी वस्तु में परिवर्तन इन्हीं तीनों गुणों के कारण होता है । चेतन प्रकृति निर्गुण है । इस प्रकार हम देखते हैं कि परा , सत् , अक्षर और निर्गुण- ये सब विशेषण चेतन प्रकृति के हैं । 

     आदिनाद और परमात्मा भी त्रय गुणों से रहित होने के कारण निर्गुण हैं ; परन्तु पद्य में ' निर्गुण ' शब्द परमात्मा के लिए प्रयुक्त नहीं है । 

     जड़ प्रकृति परिवर्त्तनशील है और परिवर्त्तन त्रय गुणों के कारण होता है । इसलिए जड़ प्रकृति को सत्त्व , रज तथा तम - इन तीनों गुणों से युक्त मानना पड़ता है । इसी कारण इसको सगुण कहते हैं । अतएव क्षर , असत् , अपरा और सगुण विशेषण जड़ प्रकृति के हैं । 

     जड़ प्रकृति सगुण है । इसलिए उससे बने हुए जड़ात्मक मंडल भी सगुण ही हैं । 

     जड़ प्रकृति से चार मंडल बनते हैं - स्थूल , सूक्ष्म , कारण और महाकारण । चेतन प्रकृति - मंडल या कैवल्य मंडल को जोड़ने से सृष्टि के पाँच मंडल होते हैं - स्थूल , सूक्ष्म , कारण , महाकारण और कैवल्य । इन पाँचो मंडलों से जैसे विश्व - ब्रह्मांड भरपूर हैं , वैसे ही इन पाँचो मंडलों से शरीर भी परिपूर्ण है । इसीलिए शरीर भी पाँच माने गये हैं । स्थूल , सूक्ष्म , कारण और महाकारण जड़ शरीर हैं और कैवल्य चेतन शरीर । 

      शरीर को क्षेत्र भी कहते हैं । गीता , अ ० १३ में पाँच स्थूल तत्त्व ( मिट्टी , जल , अग्नि , वायु तथा आकाश ) , पाँच सूक्ष्म तत्त्व ( गंध , रस , रूप , स्पर्श तथा शब्द ) , पाँच कर्मेन्द्रियाँ ( हाथ , पैर , मुँह , गुदा तथा लिंग ) , पाँच ज्ञानेन्द्रियाँ ( आँख , कान , नाक , जिह्वा तथा त्वचा ) , मन , अहंकार , बुद्धि , जड़ात्मिका मूल प्रकृति , चेतना , संघात ( कहे गये का संघ - रूप ) , धृति ( धारण करने की शक्ति ) , इच्छा , द्वेष , सुख और दुःख- इन इकतीस तत्त्वों के समुदाय को सविकार क्षेत्र कहते हैं । अन्तिम चार तत्त्व ही क्षेत्र के विकार हैं । गीता के इस क्षेत्र के अन्दर स्थूल , सूक्ष्म , कारण , महाकरण और कैवल्य- ये पाँचो शरीर आ जाते हैं । 

     ' क्षेत्र ' का अर्थ खेत होता है । किसान खेत में जैसा बीज बोता है , वैसी ही फसल काटता है । इस शरीररूपी खेत का किसान जीवात्मा है । वह इस खेत में यदि अच्छे कर्मरूपी बीज बोता है , तो वह उसका मीठा फल पाता है और यदि वह बुरे कर्मरूपी बीज बोता है , तो उसका फल कडुआ पाता है । 

     जिस शरीर को हम आँखों से देख पाते हैं , वह हमारा स्थूल शरीर है । यह पाँच स्थूल तत्त्वों - मिट्टी , जल , अग्नि , आकाश और वायु से बना हुआ है । इसमें नौ द्वार ( आँख , कान , नाक के दो - दो छिद्र और मुँह , लिंग तथा गुदा का एक - एक छिद्र ) हैं । इसमें बाल्य , यौवन और बुढ़ापा अवस्थाएँ आती हैं । जाग्रत् , स्वप्न और सुषुप्ति अवस्थाओं से यह संयुक्त है । इसमें रोग लगते हैं । यह शरीर सात धातुओं से भी बना हुआ है । वे सात धातुएँ हैं - रस , रक्त , मांस , मेद , अस्थि , मज्जा और वीर्य । खाये हुए अन्न के साररूप रस से रक्त बनता है । रक्त से मांस , मांस से मेद ( चर्बी ) , मेद से अस्थि ( हड्डी ) , अस्थि से मज्जा और मज्जे से वीर्य बनता है । इस स्थूल शरीर से जब चेतन तत्त्व निकल जाता है , तब यह स्थूल शरीर मृतक कहलाने लगता है और इसका संगठन बिगड़ जाता है । 

     स्थूल शरीर के अन्दर सूक्ष्म शरीर है । सूक्ष्म शरीर को वासनामय लिंग शरीर या केवल लिंग शरीर भी कहते हैं । सावित्री के पति सत्यवान का लिंग शरीर ही स्थूल शरीर से निकालकर यमराज लिये जा रहे थे । गीता , अ ० १५ , श्लोक ७-८ में कहा गया है कि जैसे वायु गंध के स्थान से गंध को ग्रहण करके उसे दूसरी जगह ले जाती है , उसी प्रकार जीवात्मा जब पहले शरीर को छोड़ता है , तो उससे मन - सहित पाँच ज्ञानेन्द्रियों को खींचकर दूसरे शरीर में ले जाता है । गीता और सांख्य दर्शन में तीन ही अन्तःकरण माने गये हैं- मन , बुद्धि और अहंकार , जबकि वेदान्त शास्त्र चित्त को भी चौथा अन्तःकरण मानता है । गीता के पन्द्रहवें अध्याय में जो कहा गया है कि जीवात्मा दूसरे शरीर में एक मन और पाँच ज्ञानेन्द्रियों को साथ लेकर जाता है , यहाँ मन में बुद्धि , अहंकार और चित्त का भी अन्तर्भाव मान लेना चाहिए ।

      एक मत के अनुसार , पाँच कर्मेन्द्रियों , पाँच ज्ञानेन्द्रियों , चार अन्तःकरणों और पाँच तन्मात्राओं ( शब्द , स्पर्श , रूप , रस और गंध ) का समूह सूक्ष्म शरीर है । सूक्ष्म शरीर में मानसिक दुःख का अनुभव होता है । 

     सूक्ष्म शरीर के अंदर कारण शरीर है । कारण शरीर सूक्ष्म शरीर तथा स्थूल शरीर का कारण - रूप है । कोई बीज होता है , उससे अंकुर फूटता है । उस अंकुर से फिर वृक्ष होता है । वृक्ष को स्थूल , अंकुर को सूक्ष्म और बीज को कारण मानना चाहिए । कारण शरीर के अंदर महाकारण शरीर है और महाकारण के अंदर कैवल्य शरीर । 

     मृत्यु होने पर स्थूल शरीर नष्ट हो जाता है ; परन्तु सूक्ष्म , कारण , महाकारण और कैवल्य शरीर रह जाते हैं , जिनके कारण जीवात्मा पुनः स्थूल शरीर धारण कर लेता है ; जैसे वृक्ष के कट जाने पर भी जड़ के मजबूत रहने पर पुनः वृक्ष हो जाता है । 

     जड़ के चार शरीरों के होने की युक्ति गुरुदेव इस प्रकार प्रस्तुत करते हैं- सूक्ष्म के बिना स्थूल नहीं हो सकता । घर बनाने के पहले मन में या कागज पर घर का सूक्ष्म रूप बनाते हैं , फिर घर का स्थूल रूप खड़ा करते हैं । कोई भी कार्य कारण के बिना नहीं होता । इसलिए सूक्ष्म भी कारण के बिना नहीं हो सकता । कारण भी एक ही हो , तब तो ! अनेक कारण हैं । इस प्रकार सब कारणों को एकत्र करके देखें , तो वही महाकारण कहलाता है । संसार में कारण उत्पन्न होते रहते हैं और घर बनते जाते हैं । एक बरतन के बनने में जितनी मिट्टी लगती है , वह ' एक बरतन का कारण है । सब बरतनों का कारण वहीं नहीं है । एक बरतन के कारणरूप मिट्टी से असंख्य बरतनों के कारण की मिट्टी , जो कार्यरूप में नहीं बनी है , कितनी अधिक है , जानने में नहीं आती । यही महाकारण का स्वरूप है । 

     गीता , अ ० ११ , श्लोक ३७ में अर्जुन ने श्रीकृष्ण से कहा है कि सत् तथा असत् तुम्हीं हो और इन दोनों से परे जो अक्षर है , वह भी तुम्हीं हो । गीता , अ ० १५ , श्लोक १७ में भी परमात्मा को क्षर - अक्षर से परे बतलाया गया है । . . . 


अगला पोस्ट में जानेंगे  सापेक्ष शब्द क्या हैं ? परमात्मा को क्या कह सकते हैं? स्थूल सूक्ष्म कारण और महाकारण का परिचय, अन्नमय प्राणमय मनोमय विज्ञानमय और आनंदमय -इन पाँच कोषों का परिचय और कार्य.   अवश्य पढ़े.

व्याख्या के शेष भाग को पढ़ने के लिए 👉यहाँ दवाएं


     प्रभु प्रेमियों ! इस पोस्ट का पाठ करके हम लोगों ने सत्व, रज और तम क्या है,3 गुण क्या है,तम क्या है,मनुष्य में कितने गुण होते हैं,सतोगुण का अर्थ क्या है,रजोगुण का अर्थ क्या है,सतोगुण रजोगुण तमोगुण का अर्थ,तमोगुण का अर्थ क्या है,सतोगुण में मरने वाले की गति कैसी होती है,रजोगुण के लक्षण, रजोगुण से क्या उत्पन्न होता है,तमोगुण के लक्षण,रजोगुण में संपन्न कर्म का फल होता हैं,संतुष्ट रहना किस गुण का लक्षण है,शुद्ध अवस्था और सतोगुण एक ही गुण के दो नाम हैं|,तमोगुण के प्रभाव,निम्न प्रकार के लक्षण "तमोगुण" के प्रभाव में दीखते हैं, आदि बातों को जाना. अगर आपको इस तरह का पोस्ट पसंद है, तो इस ब्लॉग को सब्सक्राइब कर लें, इससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना ईमेल द्वारा नि:शुल्क प्राप्त होती रहेगी. इस बात को अपने इष्ट मित्रों को भी अवश्य बता दें, जिससे उसको भी लाभ हो. फिर मिलते हैं दूसरे पोस्ट में . जय गुरु महाराज!  निम्न विडियो में उपरोक्त लेख का पाठ करके सुनाया गया है.


संतमत-दर्शन पुस्तक की एक झलक

संतमत-दर्शन बुक
संतमत दर्शन

 अगर आप संतमत-दर्शन पुस्तक के बारे में विशेष रूप से जानना चाहते हैं या इसे खरीदना चाहते हैं तो  यहाँ👉 यहां दवाएँ.

      इस पुस्तक को खरीदने पर एक विशेष उपहार पानेवाले के लिए आवश्यक शर्तें जाने  👉 दवाएं.

---×---

LS02 भाग 1 घ || सतोगुण, रजोगुण और तमोगुण के कार्य || Functions of Rajoguna,Satogun LS02 भाग 1 घ || सतोगुण, रजोगुण और तमोगुण के कार्य || Functions of Rajoguna,Satogun Reviewed by सत्संग ध्यान on 11/06/2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

सत्संग ध्यान से संबंधित प्रश्न ही पूछा जाए।

Popular Posts

Ad

Blogger द्वारा संचालित.